1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Chaitra Navratri 2022: मां की पूजा में सांय आरती की बड़ी महिमा है, ऐसे करें अंम्बे मां को प्रसन्न

Chaitra Navratri 2022: मां की पूजा में सांय आरती की बड़ी महिमा है, ऐसे करें अंम्बे मां को प्रसन्न

नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ रूपों की सेवा पूजा की जाती है। मां को पूजने से व्यक्ति को तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार व संयम जैसे गुणों की प्राप्ति होती है जो उसके जीवन में आगे ले जाने में मदद करते हैं।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Chaitra Navratri 2022 : नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ रूपों की सेवा पूजा की जाती है। मां के इस रूप को पूजने से व्यक्ति को तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार व संयम जैसे गुणों की प्राप्ति होती है जो उसके जीवन में आगे ले जाने में मदद करते हैं। मां की नौ दिनों तक पूजा करने का विधान है। कलश स्थापना करके मां का आवाहन किया जाता है। धूप, दीप ,नैवेद्य और मां को प्रिय वस्तुएं प्रतिदिन सुबह शाम की पूजा में मां को अर्पित की जाती है।

पढ़ें :- Char Dham Yatra 2023 : चार धाम यात्रा इस दिन से शुरू होने जा रही है , केदारनाथ धाम के कपाट 26 अप्रैल खुलेंगे

पूजा-आरती के भी नियम हैं। नियम से की गई पूजा के लाभ मिलते हैं। समय : 12 बजे के पूर्व पूजा और आरती समाप्त हो जाना चाहिए। दिन के 12 से 4 बजे के बीच पूजा या आरती नहीं की जाती है।

मां दुर्गा की आरती

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।
तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिव री।।
जय अम्बे गौरी,…।
मांग सिंदूर बिराजत, टीको मृगमद को।
उज्ज्वल से दोउ नैना, चंद्रबदन नीको।।
जय अम्बे गौरी,…।
कनक समान कलेवर, रक्ताम्बर राजै।
रक्तपुष्प गल माला, कंठन पर साजै।।
जय अम्बे गौरी,…।
केहरि वाहन राजत, खड्ग खप्परधारी।
सुर-नर मुनिजन सेवत, तिनके दुःखहारी।।
जय अम्बे गौरी,…।
कानन कुण्डल शोभित, नासाग्रे मोती।
कोटिक चंद्र दिवाकर, राजत समज्योति।।
जय अम्बे गौरी,…।
शुम्भ निशुम्भ बिडारे, महिषासुर घाती।
धूम्र विलोचन नैना, निशिदिन मदमाती।।
जय अम्बे गौरी,…।
चण्ड-मुण्ड संहारे, शौणित बीज हरे।
मधु कैटभ दोउ मारे, सुर भयहीन करे।।
जय अम्बे गौरी,…।
ब्रह्माणी, रुद्राणी, तुम कमला रानी।
आगम निगम बखानी, तुम शिव पटरानी।।
जय अम्बे गौरी,…।
चौंसठ योगिनि मंगल गावैं, नृत्य करत भैरू।
बाजत ताल मृदंगा, अरू बाजत डमरू।।
जय अम्बे गौरी,…।
तुम ही जग की माता, तुम ही हो भरता।
भक्तन की दुख हरता, सुख संपति करता।।
जय अम्बे गौरी,…।
भुजा चार अति शोभित, खड्ग खप्परधारी।
मनवांछित फल पावत, सेवत नर नारी।।
जय अम्बे गौरी,…।
कंचन थाल विराजत, अगर कपूर बाती।
श्रीमालकेतु में राजत, कोटि रतन ज्योति।।
जय अम्बे गौरी,…।
अम्बेजी की आरती जो कोई नर गावै।
कहत शिवानंद स्वामी, सुख-सम्पत्ति पावै।।

पढ़ें :- Abeer Ke Totake : चांदी के डिब्बे में सफेद अबीर घर में इस जगह रखेंं, काम बनने लगेंगे
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...