चंद्रबाबू नायडू और उनके बेटे लोकेश नजरबंद

चंद्रबाबू नायडू और उनके बेटे लोकेश नजरबंद
चंद्रबाबू नायडू और उनके बेटे लोकेश नजरबंद

हैदराबाद। तेलुगु देशम पार्टी के मुखिया और आंध्रप्रदेश के पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू और उनके बेटे नारा लोकेश को नजरबंद कर लिया गया है। एक समाचार एजेंसी के हवाले से मिली खबर के मुताबिक सीएम जगनमोहन रेड्डी के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान टीडीपी नेता नारा लोकेश की पुलिस से तीखी नोक झोंक हुई,जिसके बाद उन्हें नजरबंद कर दिया गया।

Chandrababu Naidu House Arrest :

बताया जा रहा है कि आंध्र प्रदेश में तेलुगू देशम पार्टी बुधवार से प्रदर्शन का आह्वान किया है। प्रदर्शन की संभावना के चलते प्रशासन ने गुंटूर जिले के पलनाडु क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी है। वहीं टीडीपी का कहना है कि सत्ताधारी वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के गुंडे लगातार उनके कार्यकर्ताओं पर हमले कर रहे है। इन हमलों के विरोध में तेदेपा ने ‘चलो आत्माकुर’ नाम से प्रदर्शन का आह्वान किया है। उधर वाईएसआर कांग्रेस ने भी एक जवाबी मार्च निकालने की योजना बनाई है।

डीजीपी गौतम सवांग ने कहा कि किसी विपरीत परिस्थिति से निपटने के लिए धारा 144 और पुलिस अधिनियम की धारा 30 लागू की गई है। उन्होंने कहा कि अब प्रतिबंधित इलाकों में कोई भी बैठक, रैली, जुलूस और प्रदर्शन की अनुमति नहीं है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक दल शांति बनाए रखने में पुलिस—प्रशासन की मदद करें।

उधर टीडीपी मुखिया एन चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि प्रदर्शन में उनके कार्यकतार्ओं पर वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के नेताओं द्वारा की जा रही गुंडई को उजागर किया जाएगा। टीडीपी का आरोप है कि वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं के हमलों में अब तक उसके आठ कार्यकतार्ओं की जान जा चुकी है। इनमें से अधिकांश घटनाएं पलनाडु में इलाके में हुईं हैं। वहीं वाईएसआर कांग्रेस पार्टी का आरोप है कि उसके कार्यकतार्ओं पर टीडीपी ने हमले करवाये हैं।

हैदराबाद। तेलुगु देशम पार्टी के मुखिया और आंध्रप्रदेश के पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू और उनके बेटे नारा लोकेश को नजरबंद कर लिया गया है। एक समाचार एजेंसी के हवाले से मिली खबर के मुताबिक सीएम जगनमोहन रेड्डी के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान टीडीपी नेता नारा लोकेश की पुलिस से तीखी नोक झोंक हुई,जिसके बाद उन्हें नजरबंद कर दिया गया। बताया जा रहा है कि आंध्र प्रदेश में तेलुगू देशम पार्टी बुधवार से प्रदर्शन का आह्वान किया है। प्रदर्शन की संभावना के चलते प्रशासन ने गुंटूर जिले के पलनाडु क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी है। वहीं टीडीपी का कहना है कि सत्ताधारी वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के गुंडे लगातार उनके कार्यकर्ताओं पर हमले कर रहे है। इन हमलों के विरोध में तेदेपा ने 'चलो आत्माकुर' नाम से प्रदर्शन का आह्वान किया है। उधर वाईएसआर कांग्रेस ने भी एक जवाबी मार्च निकालने की योजना बनाई है। डीजीपी गौतम सवांग ने कहा कि किसी विपरीत परिस्थिति से निपटने के लिए धारा 144 और पुलिस अधिनियम की धारा 30 लागू की गई है। उन्होंने कहा कि अब प्रतिबंधित इलाकों में कोई भी बैठक, रैली, जुलूस और प्रदर्शन की अनुमति नहीं है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक दल शांति बनाए रखने में पुलिस—प्रशासन की मदद करें। उधर टीडीपी मुखिया एन चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि प्रदर्शन में उनके कार्यकतार्ओं पर वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के नेताओं द्वारा की जा रही गुंडई को उजागर किया जाएगा। टीडीपी का आरोप है कि वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं के हमलों में अब तक उसके आठ कार्यकतार्ओं की जान जा चुकी है। इनमें से अधिकांश घटनाएं पलनाडु में इलाके में हुईं हैं। वहीं वाईएसआर कांग्रेस पार्टी का आरोप है कि उसके कार्यकतार्ओं पर टीडीपी ने हमले करवाये हैं।