1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. एके-47 असाल्ट राइफल में किए गए बदलाव, ये होगी खासियत

एके-47 असाल्ट राइफल में किए गए बदलाव, ये होगी खासियत

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

नई दिल्ली। जम्‍मू-कश्‍मीर में आतंकवाद से जूझ रही भारतीय सेना को अपडेटेड एके-203 असाॅल्‍ट राइफलों से लैस करने की तैयारी में है। इसके साथ ही इसमें कुछ बदलाव किए जा रहे हैं, ताकि इसे मुश्किल हालात में छोटा करके कार्बाइन की तरह इस्तेमाल किया जा सके और कपड़ों में छिपाया जा सके।

दरअसल, न्यूज एजेंसी ने सेना के उच्‍च पदस्‍थ सूत्रों के हवाले से बताया कि इसके लिए रफ्तार के साथ काम किया जा राह है। 93 हजार कार्बाइन खरीदने के लिए अलग निविदा जारी की जा रही है। सूत्रों का कहना है- हम आतंकवाद विरोधी अभियानों में इस राइफल को परखना चाहते हैं।

साथ ही बताया कि हम एके-203 का इस्तेमाल कार्बाइन (छोटी बंदूक) के तौर पर करना चाह रहे हैं, ताकि यह कपड़ों में आसानी से छिपाई जा सकेगी। इसके लिए इसका बट पूरी तरह हटाया जा सकता है। करीबी लड़ाई में कर्बाइन काफी मददगार होती है और कमरे में घुसने जैसे अभियानों के दौरान काफी प्रभावशाली हो सकती है।

AK-203

वहीं एके-203 असाॅल्‍ट रायफल एके-47 राइफलों का सबसे उन्नत संस्करण है। उत्‍तरप्रदेश के अमेठी में स्‍थापित कंपनी में ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड और रूस के संयुक्‍त उपक्रम के तहत इसका निर्माण होगा।

यही नहीं इस फैक्ट्री में हर साल 75 हजार एके-203 राइफलें बनाई जाएंगी। नई असॉल्ट राइफल भी एके-47 की तरह ऑटोमैटिक और सेमी ऑटोमैटिक दोनों सिस्टमों से लैस होगी।

बता दें, एके-47 की तरह यह राइफल भी एक मिनट में 600 राउंड फायर करेगी। लेकिन इसकी मारक क्षमता 350 मीटर के बजाय 500 मीटर होगी। चीन समेत 30 देशों में बन रही इस राइफल की गिनती दुनिया के सबसे खतरनाक हथियारों में होती है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...