1. हिन्दी समाचार
  2. देशद्रोह के मामले में शरजील इमाम के खिलाफ चार्जशीट दाखिल, दंगा भड़काने का आरोप

देशद्रोह के मामले में शरजील इमाम के खिलाफ चार्जशीट दाखिल, दंगा भड़काने का आरोप

Charge Sheet Filed Against Sharjeel Imam In Treason Case Accused Of Inciting Riot

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने शरजील इमाम के खिलाफ शनिवार को चार्जशीट दाखिल कर दी है। शरजील पर 15 दिसंबर 2019 को जामिया में देशद्रोही भाषण देने और दंगे भड़काने का आरोप है। दिल्ली पुलिस ने बताया कि सबूतों के आधार पर, शरजील पर सेक्शन 124 ए और आईपीसी की धारा 153A को लगाया गया है।

पढ़ें :- 17 जनवरी 2021 का राशिफल: इस राशि के जातकों को मिलने वाली है शुभ सूचना, जानिए अपनी राशि का हाल

बताते चले कि कथित तौर पर राष्ट्र विरोधी बयानबाजी करने वाले JNU छात्र शरजील इमाम (Sharjeel Imam) को बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार किया गया था। शरजील इमाम का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था, जिसमें वह कथित तौर पर देश विरोधी बयानबाजी करते नजर आए थे।  

दिल्ली पुलिस ने शरजील इमाम के खिलाफ शनिवार को चार्जशीट दाखिल कर दी है। शरजील पर 15 दिसंबर 2018 को जामिया में देशद्रोही भाषण देने और दंगे भड़काने का आरोप है। उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 124 ए और 153 ए ( देशद्रोह और दो वर्गों के बीच भेदभाव) के तहत केस दर्ज किया गया था।

कौन है शरजील इमाम?

शरजील इमाम बिहार के जहानाबाद का रहने वाला है। वह जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के सेंटर फॉर हिस्टोरिकल स्टडीज का छात्र है। शरजील की फेसबुक प्रोफाइल के मुताबिक, वह आईआईटी बॉम्बे से कंप्यूटर साइंस में पोस्ट ग्रैजुएशन भी कर चुका है।

पढ़ें :- रामपुर:मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी की चौदह सौ बीघा जमीन सरकार के नाम करने के आदेश,जाने पूरा मामला

चर्चा में क्यों आया शरजील?

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में सीएए के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन के दौरान शरजील ने दिया था देशविरोधी बयान। इस बयान के सामने आने पर शरजील के खिलाफ असम और उत्तर प्रदेश में देशद्रोह की धाराओं में केस दर्ज किया गया था। मामला तूल पकड़ने के बाद शरजील फरार हो गया था। पुलिस शरजील इमाम की तलाश में छापेमारी कर रही थी लेकिन वह बिहार में अपने घर पर मौजूद नहीं था।

कौन थे शरजील के पिता?

शरजील के पिता अकबर इमाम जनता दल यूनाइटेड के नेता थे। 2005 में उन्होंने जहानाबाद सीट से विधानसभा का चुनाव भी लड़ा था। हालांकि, वह इस चुनाव में हार गए थे।शरजील इमाम के छोटे भाई मुजम्मिल इमाम भी राजनीति में सक्रिय हैं। सीएए के खिलाफ चल रहे प्रदर्शनों में भी मुजम्मिल काफी सक्रिय हैं। दिल्ली पुलिस के मुताबिक, फरार होने से पहले शरजील इमाम को आखिरी बार 25 जनवरी को बिहार के फुलवारी शरीफ में एक मीटिंग में देखा गया था।

क्या था शरजील इमाम का बयान

पढ़ें :- महराजगंज:सिसवा को हरा बड़हरा की टीम बनी विजेता

शरजील ने भड़काऊ भाषण में कहा था कि हमारे पास संगठित लोग हों तो हम असम को हिंदुस्तान से हमेशा के लिए अलग कर सकते हैं। पुलिस ने शरजील के भाई मुजम्मिल को हिरासत में लेकर पूछताछ की थी। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने भी जहानाबाद स्थित शरजील के घर पर छापेमारी करके परिजन से पूछताछ की थी।  

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...