कठुआ रेप-मर्डर केस : पुलिस अधिकारी बोला पहले मैं रेप कर लूं, फिर इसकी हत्या करना

rape
Demo Pic
जम्मू। जम्मू के कठुआ में जनवरी के महीने में आठ साल की बच्ची की एक सप्ताह की गुमशुदगी के बाद रेप और हत्या के मामले में जम्मू—कश्मीर पुलिस ने अपनी चार्जशीट दाखिल कर दी है। जिसमें पूर्व राजस्व अधिकारी समेंत आठ लोगों को आरोपी बनाया गया है। पुलिस ने अपनी चार्जशीट में बताया है कि किशोरी को अपहरण कर एक धार्मिकस्थल के साथ बने कमरे में नशीली दवाओं के सहारे बंधक बनाया गया था। इस पूरे मामले में संजीराम नामक…

जम्मू। जम्मू के कठुआ में जनवरी के महीने में आठ साल की बच्ची की एक सप्ताह की गुमशुदगी के बाद रेप और हत्या के मामले में जम्मू—कश्मीर पुलिस ने अपनी चार्जशीट दाखिल कर दी है। जिसमें पूर्व राजस्व अधिकारी समेंत आठ लोगों को आरोपी बनाया गया है। पुलिस ने अपनी चार्जशीट में बताया है कि किशोरी को अपहरण कर एक धार्मिकस्थल के साथ बने कमरे में नशीली दवाओं के सहारे बंधक बनाया गया था। इस पूरे मामले में संजीराम नामक रिटायर्ड राजस्व अधिकारी की मुख्य भूमिका थी। जिसने अपने रिश्तेदार युवक और एक अन्य स्थानीय युवक की मदद से किशोरी का अपहरण करवाया था।

पुलिस के मुताबिक इस घटना के पीछे इलाके में कुछ दिन पहले ही आकर बसे घुमंतु मुस्लिमों के एक डेरे को डराकर विस्थापित कराने की नियत थी। 17 जनवरी को संजीराम ने अपने भांजे व एक अन्य युवक की मदद से किशोरी का अपहरण करवाया था।जब किशोरी के पिता ने पुलिस में जाकर शिकायत दर्ज करवाई, तो इस मामले में छानबीन करने पहुंची पुलिस की टीम को संजीराम ने घूंस देकर मामले को रफा दफा करवाने की कोशिश की। जिसमें वह कामयाब भी हो गया, लेकिन पुलिस की जांच पर उठे सवालों के बीच इस मामले की नए सिर से जांच करवाई गई।

{ यह भी पढ़ें:- कठुआ गैंगरेप मामला : सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू कश्मीर सरकार को दी नोटिस, कही ये बात }

नई जांच में संजीराम से पूछताछ में सामने आया कि जब सब इंपेक्टर आनंद दत्ता और दो स्पेशल पुलिस ऑफिसर्स दीपक खजूरिया और सुरेंदर वर्मा, हेड कॉन्स्टेबल तिलक राज और परवेश कुमार जब उन तक पहुंचे, किशोरी जीवित थी। कानूनी फंदे से बचने के लिए उसने पुलिस वालों को घूंस का आॅफर दिया। जिसे स्वीकार करते हुए उन्होंने किशोरी की हत्या कर शव को जंगल में फेंकने की बात कही। लेकिन इस बीच वहां मौजूद दीपक खजूरिया ने किशोरी की हत्या से पहले उसका रेप करने की ईच्छा जाहिर की। खजूरिया ने किशोरी के साथ रेप किया, फिर उसके शव को छत विछत अवस्था में जंगल में फेंक दिया गया।

पुलिस ने संजीराम के बयान के आधार पर ही पुलिस कर्मियों को भी इस मामले में बलात्कार और हत्या का मुख्य आरोपी बनाया है। पुलिस की इस जांच और आरोपी पुलिस कर्मियों की गिरफ्तारी को लेकर कठुआ में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए हैं।

{ यह भी पढ़ें:- कठुआ गैंगरेप मामला: दुराचार व हत्या के आरोपी चार पुलिसकर्मी बर्खास्त }

Loading...