लॉंच हुआ नकली नोटों की पहचान करने वाला ऐप

नई दिल्ली। नकली नोट दुनिया के हर कोने में सर्कुलेट हो रहे है। इनकी छपाई कुछ इस तरीके से की जाती है कि असली और नकली नोट में फर्क करना मुश्किल हो जाता है। यही वजह है कि जाली नोटों को बंद करने के लिए एक एप बनाई गई है जो नकली नोटों की पहचान करके इनका पता लगा सकता है। चेकफेक ब्रैंड प्रोटेक्शन सिस्टम प्राइवेट लिमिटेड ने एक ऐसा अनोखा ग्लोबल प्लेटफॉर्म 'चेकफेक' एप लांच किया है, जिससे विश्व…

नई दिल्ली। नकली नोट दुनिया के हर कोने में सर्कुलेट हो रहे है। इनकी छपाई कुछ इस तरीके से की जाती है कि असली और नकली नोट में फर्क करना मुश्किल हो जाता है। यही वजह है कि जाली नोटों को बंद करने के लिए एक एप बनाई गई है जो नकली नोटों की पहचान करके इनका पता लगा सकता है।

चेकफेक ब्रैंड प्रोटेक्शन सिस्टम प्राइवेट लिमिटेड ने एक ऐसा अनोखा ग्लोबल प्लेटफॉर्म ‘चेकफेक’ एप लांच किया है, जिससे विश्व की किसी भी मुद्रा के करंसी नोट की जांच यूजर्स कर सकते हैं। चेकफेक ऐप को लॉंच करते वक्त चेकफेक के निदेशक और सहसंस्थापक तन्मय जयसवाल ने कहा, ‘चेकफेक एक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है, जहां कोई भी विश्व के किसी भाग में प्रचलित मुद्रा की जांच कर सकता है।’

{ यह भी पढ़ें:- दुनिया के सबसे एडवांस कैमरे वाला Huawei P20 Pro & P20 lite स्मार्टफोन भारत में लॉन्च }

चेकफेक ऐप के जरिए उपभोक्ताओं, व्यवसायियों और सरकार को जाली नोटों से होने वाले नुकसान से बचा सकते है। चेकफेक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है जहां कहीं से भी वहां की प्रचलित मुद्रा की जांच कर सकते है। चेकफेक के निदेशक और सहसंस्थापक तन्मय जयसवाल के मुताबिक दुनिया में 1.7 ट्रिलियन डॉलर जाली नोट है। चेकफेक जाली करंसी की पहचान के लिए सिंगल पॉइंट डेस्टिनेशन है। स्मार्टफोन की सहायता से इसे किसी भी जगह इस्तेमाल किया सकता है।

Loading...