पानी की किल्लत से जूझ रहा चेन्नई, स्कूलों की टाइमिंग में हुआ बदलाव

पानी की किल्लत से जूझ रहा चेन्नई, स्कूलों की टाइमिंग में हुआ बदलाव
पानी की किल्लत से जूझ रहा चेन्नई, स्कूलों की टाइमिंग में हुआ बदलाव

चेन्नई। तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में लोगों को पानी की किल्लत की वजह से काफी काफ़ी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पानी की किल्लत का सीधा असर लोगों के आम जनजीवन पर पड़ रहा है। कहीं स्कूलों में छुट्टियाँ करनी पड़ रही है तो कई स्कूलों की टाइमिंग में बदलाव किया जा रहा है।

Chennai School Timing Change Due To Water Crisis :

चेन्नई शहर के एक निजी स्कूल विवेकानंद विद्यालय ने बुधवार को स्कूल के संचालन का समय बदल दिया गया। स्कूल का संचालन अब सुबह 8 बजे से दोपहर 12:15 बजे तक होगा। इसकी जानकारी विद्यालय ने अभिभावकों को मैसेज के माध्यम से दी। इसके अलावा शहर के तीन अन्य स्कूलों ने भी समय-सारणी में बदलाव किया है।

गौरतलब है कि चेन्नई शहर में जल संकट पहले से भी ज्यादा बढ़ गया है। हालत यह हो गई है कि पाइप लाइन से पानी की आपूर्ति में 40 फीसदी की कटौती करनी पड़ी है। टैंकरों द्वारा पानी का वितरण टोकन के माध्यम से किया जा रहा है। पानी की इस तरह बढ़ती समस्या को दखते हुए मद्रास हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

जल संकट की वजह से शहर के होटल, मॉल और अन्य उपक्रमों पर नकारात्मक प्रभाव तो पड़ ही रहा है साथ ही कई स्थानों से हिंसक झड़पों का मामला भी सामने आया है।

चेन्नई। तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में लोगों को पानी की किल्लत की वजह से काफी काफ़ी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पानी की किल्लत का सीधा असर लोगों के आम जनजीवन पर पड़ रहा है। कहीं स्कूलों में छुट्टियाँ करनी पड़ रही है तो कई स्कूलों की टाइमिंग में बदलाव किया जा रहा है। चेन्नई शहर के एक निजी स्कूल विवेकानंद विद्यालय ने बुधवार को स्कूल के संचालन का समय बदल दिया गया। स्कूल का संचालन अब सुबह 8 बजे से दोपहर 12:15 बजे तक होगा। इसकी जानकारी विद्यालय ने अभिभावकों को मैसेज के माध्यम से दी। इसके अलावा शहर के तीन अन्य स्कूलों ने भी समय-सारणी में बदलाव किया है। गौरतलब है कि चेन्नई शहर में जल संकट पहले से भी ज्यादा बढ़ गया है। हालत यह हो गई है कि पाइप लाइन से पानी की आपूर्ति में 40 फीसदी की कटौती करनी पड़ी है। टैंकरों द्वारा पानी का वितरण टोकन के माध्यम से किया जा रहा है। पानी की इस तरह बढ़ती समस्या को दखते हुए मद्रास हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। जल संकट की वजह से शहर के होटल, मॉल और अन्य उपक्रमों पर नकारात्मक प्रभाव तो पड़ ही रहा है साथ ही कई स्थानों से हिंसक झड़पों का मामला भी सामने आया है।