Big News: सवा करोड़ के इनामी नक्सल दम्पत्ति ने किया सरेंडर!

c

छत्तसीगढ़। छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के खिलाफ अभियान में बड़ी कामयाबी मिली है। सवा करोड़ के इनामी नक्सल दम्पत्ति सुधाकरन और उसकी पत्नी नीलिमा ने आत्म समर्पण कर दिया है। दोनों के आत्म समर्पण की अधिकारिक रूप से पुष्टिï नहीं हुई है।

Chhattisgarh Naxal Sudhakaran And His Wife Nilima Surrender :

इस सरेंडर को नक्सल संगठन के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। पुलिस के अनुसार सुधाकरन पर 1 करोड़ और उसकी पत्नी नीलिमा पर 25 लाख का इनाम था। दोनों ने तेलंगाना पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण किया। हालांकि तेलंगाना पुलिस ने इसकी औपचारिक घोषणा नहीं कि है पर झारखंड पुलिस के सूत्रों ने बताया कि इन दोनों केडर नक्सल दम्पत्ति ने कुछ दिन पहले ही तेलंगाना पुलिस के आगे समर्पण कर दिया है।

माओवादी सेंट्रल कमेटी का सदस्य सुधाकरन को ओगू, सतवाजी, बुरयार, सुधाकर और किरण सहित अन्य कई नामों से जाना जाता है। झारखंड में इस नक्सली ने तेंदूपत्ता व्यापारियो और ठेकेदारों से वसूली कर अकूत सम्पत्ति बना रखी है और अपने दोस्त सत्यनारायण के जरिये इस पैसों को कारोबार में भी लगा रखा है। नक्सली नेता अरविंद की मौत के बाद झारखंड और छग में इसी के नेतृत्व में नक्सली संगठन कार्य कर रहे थे।

छत्तसीगढ़। छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के खिलाफ अभियान में बड़ी कामयाबी मिली है। सवा करोड़ के इनामी नक्सल दम्पत्ति सुधाकरन और उसकी पत्नी नीलिमा ने आत्म समर्पण कर दिया है। दोनों के आत्म समर्पण की अधिकारिक रूप से पुष्टिï नहीं हुई है। इस सरेंडर को नक्सल संगठन के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। पुलिस के अनुसार सुधाकरन पर 1 करोड़ और उसकी पत्नी नीलिमा पर 25 लाख का इनाम था। दोनों ने तेलंगाना पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण किया। हालांकि तेलंगाना पुलिस ने इसकी औपचारिक घोषणा नहीं कि है पर झारखंड पुलिस के सूत्रों ने बताया कि इन दोनों केडर नक्सल दम्पत्ति ने कुछ दिन पहले ही तेलंगाना पुलिस के आगे समर्पण कर दिया है। माओवादी सेंट्रल कमेटी का सदस्य सुधाकरन को ओगू, सतवाजी, बुरयार, सुधाकर और किरण सहित अन्य कई नामों से जाना जाता है। झारखंड में इस नक्सली ने तेंदूपत्ता व्यापारियो और ठेकेदारों से वसूली कर अकूत सम्पत्ति बना रखी है और अपने दोस्त सत्यनारायण के जरिये इस पैसों को कारोबार में भी लगा रखा है। नक्सली नेता अरविंद की मौत के बाद झारखंड और छग में इसी के नेतृत्व में नक्सली संगठन कार्य कर रहे थे।