मुख्यमंत्री पिनराई विजयन बोले-नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ खड़ा है पूरा केरल

मुख्यमंत्री पिनराई विजयन
मुख्यमंत्री पिनराई विजयन बोले-नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ खड़ा है पूरा केरल

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देश भर में विरोध प्रदर्शन चल रहा है। असम से शुरू हुई आग दिल्ली से होकर यूपी तक पहुंच गई है। इस बीच केरल के सीएम पिनराई विजयन ने कहा कि यह वर्तमान का माहौल भाजपा और आरएसएस ने बनाया है। वे अपने एजेंडे को लागू करने का प्रयास कर रहे हैं। देश में अस्थिरता का माहौल है। विजयन ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ पूरा केरल एक साथ खड़ा है।

Chief Minister Pinarayi Vijayan Said Entire Kerala Stands Against Citizenship Amendment Bill :

केरल के मुख्यमंत्री ने सोमवार को नागरिकता संशोधन कानून पर जोर देते हुए कहा कि यह ‘स्वतंत्रता’ पर अंकुश लगाने का एक प्रयास है। उन्होंने कहा कि देश विस्फोटक माहौल का सामना कर रहा है। सत्तारूढ़ माकपा नीत एलडीएफ और यूडीएफ की अगुवाई वाली विपक्षी कांग्रेस द्वारा आयोजित संयुक्त बैठक में बोलते हुए, विजयन ने कहा कि हमारा देश एक गंभीर संकट का सामना कर रहा है।

उन्होंने कहा कि यह जानबूझकर केंद्र सरकार द्वारा बनाया गया है। आरएसएस का एजेंडा यह सुनिश्चित करना था कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश नहीं होना चाहिए, बल्कि एक धार्मिक राष्ट्र होना चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि भारत धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है और सभी धर्मों और सभी धर्मों के लोगों का इस देश में एक स्थान है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले सप्ताह संसद के दोनों सदनों द्वारा सीएए पारित किए जाने के बाद देश भर में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हुए हैं।

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देश भर में विरोध प्रदर्शन चल रहा है। असम से शुरू हुई आग दिल्ली से होकर यूपी तक पहुंच गई है। इस बीच केरल के सीएम पिनराई विजयन ने कहा कि यह वर्तमान का माहौल भाजपा और आरएसएस ने बनाया है। वे अपने एजेंडे को लागू करने का प्रयास कर रहे हैं। देश में अस्थिरता का माहौल है। विजयन ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ पूरा केरल एक साथ खड़ा है। केरल के मुख्यमंत्री ने सोमवार को नागरिकता संशोधन कानून पर जोर देते हुए कहा कि यह 'स्वतंत्रता' पर अंकुश लगाने का एक प्रयास है। उन्होंने कहा कि देश विस्फोटक माहौल का सामना कर रहा है। सत्तारूढ़ माकपा नीत एलडीएफ और यूडीएफ की अगुवाई वाली विपक्षी कांग्रेस द्वारा आयोजित संयुक्त बैठक में बोलते हुए, विजयन ने कहा कि हमारा देश एक गंभीर संकट का सामना कर रहा है। उन्होंने कहा कि यह जानबूझकर केंद्र सरकार द्वारा बनाया गया है। आरएसएस का एजेंडा यह सुनिश्चित करना था कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश नहीं होना चाहिए, बल्कि एक धार्मिक राष्ट्र होना चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि भारत धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है और सभी धर्मों और सभी धर्मों के लोगों का इस देश में एक स्थान है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले सप्ताह संसद के दोनों सदनों द्वारा सीएए पारित किए जाने के बाद देश भर में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हुए हैं।