Children’s Day Special: जानिए बाल दिवस और चाचा नेहरू से जुड़ी कुछ खास बातें

नई दिल्ली। भारत में बाल दिवस देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल की जंयती के दिन मनाया जाता है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 20 नवंबर को बाल दिवस मनाने की परंपरा है। यूनाइटेड नेशंस के इंटरनेशनल चिल्ड्रन्स डे को एक समय तक बाल दिवस के तौर पर मनाया जाता था।

चाचा नेहरू जी को बच्चों से बहुत प्यार था और बच्चे से भी उन्हें बहुत प्यार मिलता था। यही वजह है कि पंडित जवाहर लाल नेहरू को बच्चे प्यार से चाचा कह कर बुलाते थे और इसीलिए भारत में नेहरू जी के जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। बता दें कि भारत में 1964 से पहले बाल दिवस 20 नवंबर को मनाया जाता था लेकिन पंडित नेहरू की मौत के बाद बाल दिवस उनके जन्मदिन यानि 14 नवंबर पर मनाया जाने लगा। कई देशों में यह अलग-अलग दिन मनाया जाता है। बाल दिवस बच्चों के अधिकारों और शिक्षा के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए सेलिब्रेट किया जाता है। स्कूलों में बच्चों को चाचा एहरु के जीवन के बारे में बताया जाता है साथ ही कई कार्यक्रम कराये जाते हैं जिससे बच्चों के जीवन में चाचा नेहरु के महत्व को बनाए रखने का प्रयास किया जाता है। कई देशों में बाल दिवस 1 जून को मनाया जाता है। वहीं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बाल दिवस या चिल्ड्रन डे 20 नवंबर को मनाया जाता है।

{ यह भी पढ़ें:- गाजीपुर पहुंचे पीएम मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशाना, इमरजेंसी की दिलाई याद }

जानिए क्या है बाल दिवस का इतिहास

क्या आप जानते हैं कि बाल दिवस की नींव 1925 में रखी गई थी और दुनिया भर में 1953 में इसे मान्यता मिली। यूएन ने 20 नवबंर को बाल दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की लेकिन यह अन्य देशों में अलग-अलग दिन मनाया जाता है। वहीं कुछ देशों में आज भी 20 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाता है। 1950 से कई देशों में बाल संरक्षण दिवस यानि 1 जून पर ही बाल दिवस मनाया जाता है। जिसे वर्ल्ड चिल्ड्रन डे के नाम से भी जाना जाता है। यह दिन बच्चों के बेहतर भविष्य और उनकी मूल जरूरतों को पूरा करने की याद दिलाता है।

Loading...