इस क्लब के कारनामे आपके कानों में बजा देंगे सीटी, Watch Video

2225554
इस क्लब के कारनामे आपके कानों में बजा देंगे सीटी

Chilli Club Getting Attention Due To Its Chilli Eating Competition

हर आदमी के अपने शौक होते हैं किसी को किताबें पढ़ने का तो किसी को बाइकिंग का, गाने का या फिर नाचने का। आदमी अपने शौक के हिसाब ऐसे ठिकाने ढूंढ़ ही लेता है जहां उसे अपने जैसे दो चार जुनूनी लोग मिल जाएं जिनके बीच उसे खुशी मिले। लोगों की इसी जरूरत को ध्यान में रखते हुए क्लबों की शुरूआत हुई। जहां लोग अपने अनुभव को दूसरों के साथ शेयर करते हैं और ​कुछ नया करने की कोशिश करते हैं।

ब्रिटेन में भी कुछ खुराफाती लोगों के दिमाग में चिली क्लब खोलने की बात उपजी। जिसका नाम रखा गया क्लिफटन चिली क्लब जैसा की नाम से स्पष्ट है कि यह क्लब चिली यानी मिर्च खाने के शौकीनों का ठिकाना है। यहां दुनिया भर की सबसे तीखी नस्ल के चिलीज और उनसे तैयार हुए सॉसेज और अचार मिलते भी मिलते हैं। इस क्लब को चलाने वाले लोगों कहना है कि वे समाज में मौजूद चिली खाने वाले लोगों के अनुभव को बदलने के लिए काम कर रहने हैं।

यह क्लब 2014 से ब्रिटेन के अलग अलग हिस्सों में जाकर मिर्च खाने की प्रतियोगिता करवाता है। जिसमें भाग लेने वाले व्यक्ति को हर राउंड में एक नई बैराइटी की मिर्च दी जाती है। जो दो प्रतिभागी अंत तक मैदान में डटे रहते हैं उन्हें फाइनल राउंड में एक बड़ी और तीखी मिर्च दी जाती है। प्रतियोगिता जीतने के लिए प्रतिभागी को वह मिर्च तेजी से खानी होती है। जो प्रतिभागी अपनी मिर्च पहले खत्म करता है वही विजेता कहलाता है। यह क्लब अपनी प्रतियोगिताओं की घोषणा के बाद ऐसे लोगों का रजिस्ट्रेशन करता है जो प्रतिभागी बनना चाहते हैं। उसके बाद उन प्रतिभागियों को प्रैक्टिस भी करवाई जाती है।

क्या—क्या करता है यह क्लब—

इस क्लब की वेबसाइट से मिली जानकारी के मुताबिक यह क्लब नॉन प्रॉफिट है और इस क्लब का प्रयास है कि वह मिर्च खाने के शौकीनों को एक से बढ़कर बेहतर मिर्च और उससे बने प्रोडक्ट्स के बारे में जानकारी देने से लेकर उन प्रोडक्ट्स को उपलब्ध करवाना। हॉट सॉसेज के साथ खाए जाने वाली डिशेज के फूड ईवेंट करवाना।

बाजार में मौजूद चिली प्रोडक्ट्स का रिव्यू करना। मिर्च से बनने वाली नई रेसिपीज को तैयार करना। मिर्च के उत्पादन को कैसे बेहतर बनाया जाए इस बारे में भी इस क्लब के लोग जानकारी देते हैं। अलग अलग किस्म और मौसम में पैदा होने वाली मिर्च के स्वाद किस तरह से अलग होते हैं, यह क्लब इस बात पर भी रिसर्च करता है। मिर्च को कितने प्रकार से खाया जा सकता है, यह भी इस क्लब के लोग सिखाते हैं। इसके अलावा यह क्लब चिली प्रोडक्ट्स और चिली उगाने वालों को भी प्रोत्साहित करता है।

इस क्लब की वेबसाइट पर अपलोड तस्वीरों को देखकर इस क्लब की सफलता के बारे में आसानी से अंदाजा लगाया जा सकता है। हाल ही में हुए इस क्लब के कुछ इवेंट्स में हजारों लोग शामिल हुए।

हर आदमी के अपने शौक होते हैं किसी को किताबें पढ़ने का तो किसी को बाइकिंग का, गाने का या फिर नाचने का। आदमी अपने शौक के हिसाब ऐसे ठिकाने ढूंढ़ ही लेता है जहां उसे अपने जैसे दो चार जुनूनी लोग मिल जाएं जिनके बीच उसे खुशी मिले। लोगों की इसी जरूरत को ध्यान में रखते हुए क्लबों की शुरूआत हुई। जहां लोग अपने अनुभव को दूसरों के साथ शेयर करते हैं और ​कुछ नया करने की कोशिश करते…