1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. पाकिस्तान के साथ मिलकर चीन रच रहा भारत के खिलाफ यह साजिश

पाकिस्तान के साथ मिलकर चीन रच रहा भारत के खिलाफ यह साजिश

नई दिल्‍ली: दुनिया में कोरोना बांटने वाला चीन इस महामारी की घड़ी में अपनी विस्‍तारवादी नीति में लगा हुआ है। वह हांगकांग, ताइवान के बाद भारत के खिलाफ एक बड़ी साजिश रचने में लगा हुआ है, जिसमें उसका साथ पाकिस्‍तान भी दे रहा है। पाकिस्‍तान को पता है कि वह अपने दम पर भारत का कुछ नहीं बिगाड़ सकता, इसलिए उसने चीन को आगे करके इस तरह की घिनौनी हरकत करने की हिमाकत की है।

पढ़ें :- Rakesh Jhunjhunwala : राकेश झुनझुनवाला के निधन पर पीएम मोदी ने जताया दुख, कहा- वित्तीय दुनिया में उनका था अमिट योगदान


चीन एक तरफ लद्दाख में भारत से टकराव की स्‍थिति में हैं तो दूसरी तरफ उसने पाकिस्तान के साथ मिलकर हिंद महासागर में भी साजिश रचनी शुरू कर दी है। पाकिस्तान के ग्वादर में चीन ने एक नेवल बेस तैयार करने में लगा है, जिसके बाद वह हिंद महासागर में अपने कदम बढ़ाएगा। इस बारे में खुलासा हालिया सैटलाइट तस्वीरों से हुआ है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, यहां पर चीन ने पिछले कुछ सालों में नए कॉम्प्लेक्स बने हैं। एक पोर्ट पूरी तरह से चीनी कंपनी के कब्‍जे में हैं, जहां पर सिक्यॉरिटी कुछ ज्यादा ही है।

पढ़ें :- Rakesh Jhunjhunwala passed away: शेयर बाजार के दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला का निधन

पाकिस्तान के पश्चिमी तट पर ग्वादर में चीन की वन बेल्ट वन रोड योजना को अंजाम दिया जा रहा है, जिसमें बनने के बाद वह दक्षिण एशिया से घूमकर जाने की बजाय पाकिस्तान से होकर जाएगा। यहां नेवल बेस बनाने की रिपोर्ट्स सबसे पहले जनवरी 2018 में आई थीं। हालांकि, इसे कभी आधिकारिक तौर पर माना नहीं गया। इस हाई सिक्यॉरिटी कंपाउंड को चाइना कम्यूनिकेशन्स कंस्ट्रक्शन कंपनी इस्तेमाल कर रही है।

रिपोर्ट के मुताबिक यहां ऐंटी-वीइकल रास्ते, सिक्यॉरिटी फेंसिंग और ऊंची दीवारें खड़ी की गई हैं। इससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि यहां हथियार बंद गार्ड्स तैनात हैं। यह चीन के मरीन कॉर्प्स के बैरक हो सकते हैं। माना जा रहा है कि पोर्ट के विस्तार के लिए यह निर्माण किया गया है।

ग्वादर पोर्ट से कुछ वक्त पहले अफगानिस्तान के लिए एक बड़ा मर्चेंट शिप MV Manet 17,600 टन गेहूं लेकर पहुंचा। माना जा रहा है कि चीन का पोर्ट या संभावित नेवल बेस बनने से आर्थिक फायदा बढ़ेगा। ऐसे में हिंद महासागर पर चीन की मौजूदगी भी और ताकतवर हो जाएगी।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...