चीन ने फिर निभाई दोस्ती, पाकिस्तान के दो सैटलाइट किए लॉन्च

नई दिल्ली। चीन ने अपने सदाबहार दोस्त पाकिस्तान के लिए दो रिमोट सेंसिंग सैटलाइट को सफलतापूर्वक लॉन्च किया है। ये सैटेलाइट चाइना-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर पर नज़र रखने में भी मददगार साबित होंगे। तकरीबन 19 साल के दौरान ‘लॉन्ग मार्च -2 सी’ रॉकेट का यह पहला अंतरराष्ट्रीय व्यावसायिक प्रक्षेपण है सरकारी समाचार एजेंसी के मुताबिक, पश्चिमोत्तर चीन में जिउकन उपग्रह प्रक्षेपण केंद्र से दोपहर 11.56 बजे उपग्रह ‘पीआरएसएस-1’ और ‘पाक टीईएस-1ए’ को प्रक्षेपित किया गया।

China Launches Two Satellites For Pakistan :

बता दें कि यह दूसरी बार है जब चीन ने पाकिस्तान को उपग्रह प्रक्षेपण में मदद की है। इससे पहले अगस्त 2011 में चीन ने संचार उपग्रह ‘पाक टीईएस-1आर’ को लॉन्च करने में पाकिस्तान का सहयोग किया था।

‘पीआरएसएस-1’ और ‘पाक टीईएस-1 ए’ में से ‘पाक टीईएस-1 ए’ का निर्माण पाकिस्तान जबकि ‘पीआरएसएस-1’ का निर्माण चीन द्वारा किया गया था। ‘पीआरएसएस-1’ चीन द्वारा पाकिस्तान को बेचा गया पहला ऑप्टिकल दूर संवेदी उपग्रह है। चाइना एकेडमी ऑफ स्पेस टेक्नॉलजी (CAST) द्वारा विदेशी खरीददारों के लिए तैयार किया गया यह 17वां उपग्रह है।

गौरतलब है कि पाकिस्तान स्पेस ऐंड अपर ऐटमसफियर रिसर्च कमीशन (SUPARCO) अपने देश के लिए सैटेलाइट्स का निर्माण करता है। चीन द्वारा विकसित PRSS-1 का उपयोग भूमि और संसाधन सर्वेक्षण, प्राकृतिक आपदाओं की निगरानी, कृषि अनुसंधान, शहरी निर्माण और बेल्ट तथा रोड क्षेत्र के लिए रिमोट सेंसिंग जानकारी प्रदान करने के लिए किया जाएगा। बता दें कि सोमवार को लॉन्च किया गया यह मिशन लॉन्ग मार्च रॉकेट सीरीज का 279वां मिशन है।

नई दिल्ली। चीन ने अपने सदाबहार दोस्त पाकिस्तान के लिए दो रिमोट सेंसिंग सैटलाइट को सफलतापूर्वक लॉन्च किया है। ये सैटेलाइट चाइना-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर पर नज़र रखने में भी मददगार साबित होंगे। तकरीबन 19 साल के दौरान 'लॉन्ग मार्च -2 सी' रॉकेट का यह पहला अंतरराष्ट्रीय व्यावसायिक प्रक्षेपण है सरकारी समाचार एजेंसी के मुताबिक, पश्चिमोत्तर चीन में जिउकन उपग्रह प्रक्षेपण केंद्र से दोपहर 11.56 बजे उपग्रह ‘पीआरएसएस-1’ और ‘पाक टीईएस-1ए’ को प्रक्षेपित किया गया। बता दें कि यह दूसरी बार है जब चीन ने पाकिस्तान को उपग्रह प्रक्षेपण में मदद की है। इससे पहले अगस्त 2011 में चीन ने संचार उपग्रह ‘पाक टीईएस-1आर’ को लॉन्च करने में पाकिस्तान का सहयोग किया था। ‘पीआरएसएस-1’ और ‘पाक टीईएस-1 ए’ में से ‘पाक टीईएस-1 ए’ का निर्माण पाकिस्तान जबकि ‘पीआरएसएस-1’ का निर्माण चीन द्वारा किया गया था। ‘पीआरएसएस-1’ चीन द्वारा पाकिस्तान को बेचा गया पहला ऑप्टिकल दूर संवेदी उपग्रह है। चाइना एकेडमी ऑफ स्पेस टेक्नॉलजी (CAST) द्वारा विदेशी खरीददारों के लिए तैयार किया गया यह 17वां उपग्रह है। गौरतलब है कि पाकिस्तान स्पेस ऐंड अपर ऐटमसफियर रिसर्च कमीशन (SUPARCO) अपने देश के लिए सैटेलाइट्स का निर्माण करता है। चीन द्वारा विकसित PRSS-1 का उपयोग भूमि और संसाधन सर्वेक्षण, प्राकृतिक आपदाओं की निगरानी, कृषि अनुसंधान, शहरी निर्माण और बेल्ट तथा रोड क्षेत्र के लिए रिमोट सेंसिंग जानकारी प्रदान करने के लिए किया जाएगा। बता दें कि सोमवार को लॉन्च किया गया यह मिशन लॉन्ग मार्च रॉकेट सीरीज का 279वां मिशन है।