ब्रह्मोस को चुनौती देने के लिए चीन ने PAK के लिए बनाई ये मिसाइल

china
ब्रह्मोस को चुनौती देने के लिए चीन ने PAK के लिए बनाई मिसाइल

नई दिल्ली। पाकिस्तान अब अपनी रक्षा जरुरतों के लिए काफ़ी हद तक चीन पर निर्भर है और चीन कई ऐसे अत्याधुनिक हथियार पाकिस्तान को दे रहा है, जो भारत के लिए बड़ा ख़तरा बन सकते हैं। ताज़ा ख़बर ये है कि NX 22 CHNG पाकिस्तान की नौसेना में चीन की घातक YJ-12 मिसाइल का एक्सपोर्ट वेरिएंट CN-302 शामिल होने जा रहा है। ये चीन में बन रही चार नई फ्रिगेट्स में मुख्य हथियार के तौर पर तैनात किया जाएगा। पाकिस्तान के लिए ये फ्रिगेट शंघाई में तैयार हो रही हैं।

China Makes New Missile To Challenge Brahmos :

एक ऑनलाइन मिलिटरी वेबसाइट globalsecurity.org के मुताबिक, YJ-12 की सबसे खास बात इसकी रेंज नहीं बल्कि इसकी रफ़्तार है। यह डबल थ्रीया डबल फोर की रफ्तार से हमला कर सकती है। इसका मतलब है 300 किलोमीटर की रेंज तक मैक थ्रीयानी 1.02 किलोमीटर प्रति सेकंड की रफ़्तार या NX 28 CHNG 400 किलोमीटर की दूरी तक मैक 4 यानी 1.36 किलोमीटर प्रति सेकंड की रफ़्तार से हमला करने की ताक़त इस मिसाइल में है।हालांकि, अभी यह साफ नहीं है कि भारत की अत्याधुनिक बराक 8 लॉन्ग रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल क्या चीन में बनी YJ-12 मिसाइल को हवा में ही मार कर गिरा सकती है या नहीं। बराक 8 लॉन्ग रेंज मिसाइल भारत के सबसे नए कोलकाता क्लास डिस्ट्रॉयर्स में तैनात की गई है।

भारत के लिए चिंता की बात यह है कि CM-302 मिसाइल सुपरसोनिक रफ़्तार और रेंज के मामले में भारतीय नौसेना की अत्याधुनिक ब्रह्मोस एंटी शिप क्रूज़ मिसाइल को टक्कर देती है। भारत के फ्रंटलाइन युद्धक जहाज़ों में ये मिसाइल 2005 से तैनात हैं। रक्षा मंत्रालय के वरिष्ठ अफसरों के मुताबिक CM-302 भारत के लिए नया ख़तरा है। इसकी नुकसान पहुंचाने की क्षमता बहुत ज़्यादा है। लेकिन थोड़ी राहत की बात ये है कि भारतीय नौसेना के लिए ये खतरा विश्वसनीय साबित होने में अभी वक्त लगेगा, क्योंकि पाकिस्तान की नौसेना के पास वो लॉन्ग रेंज सेंसर नहीं हैं, जिनकी जरुरत भारतीय युद्धक जहाजों पर सटीक निशाना लगाने के लिए चाहिए।

नई दिल्ली। पाकिस्तान अब अपनी रक्षा जरुरतों के लिए काफ़ी हद तक चीन पर निर्भर है और चीन कई ऐसे अत्याधुनिक हथियार पाकिस्तान को दे रहा है, जो भारत के लिए बड़ा ख़तरा बन सकते हैं। ताज़ा ख़बर ये है कि NX 22 CHNG पाकिस्तान की नौसेना में चीन की घातक YJ-12 मिसाइल का एक्सपोर्ट वेरिएंट CN-302 शामिल होने जा रहा है। ये चीन में बन रही चार नई फ्रिगेट्स में मुख्य हथियार के तौर पर तैनात किया जाएगा। पाकिस्तान के लिए ये फ्रिगेट शंघाई में तैयार हो रही हैं। एक ऑनलाइन मिलिटरी वेबसाइट globalsecurity.org के मुताबिक, YJ-12 की सबसे खास बात इसकी रेंज नहीं बल्कि इसकी रफ़्तार है। यह डबल थ्रीया डबल फोर की रफ्तार से हमला कर सकती है। इसका मतलब है 300 किलोमीटर की रेंज तक मैक थ्रीयानी 1.02 किलोमीटर प्रति सेकंड की रफ़्तार या NX 28 CHNG 400 किलोमीटर की दूरी तक मैक 4 यानी 1.36 किलोमीटर प्रति सेकंड की रफ़्तार से हमला करने की ताक़त इस मिसाइल में है।हालांकि, अभी यह साफ नहीं है कि भारत की अत्याधुनिक बराक 8 लॉन्ग रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल क्या चीन में बनी YJ-12 मिसाइल को हवा में ही मार कर गिरा सकती है या नहीं। बराक 8 लॉन्ग रेंज मिसाइल भारत के सबसे नए कोलकाता क्लास डिस्ट्रॉयर्स में तैनात की गई है। भारत के लिए चिंता की बात यह है कि CM-302 मिसाइल सुपरसोनिक रफ़्तार और रेंज के मामले में भारतीय नौसेना की अत्याधुनिक ब्रह्मोस एंटी शिप क्रूज़ मिसाइल को टक्कर देती है। भारत के फ्रंटलाइन युद्धक जहाज़ों में ये मिसाइल 2005 से तैनात हैं। रक्षा मंत्रालय के वरिष्ठ अफसरों के मुताबिक CM-302 भारत के लिए नया ख़तरा है। इसकी नुकसान पहुंचाने की क्षमता बहुत ज़्यादा है। लेकिन थोड़ी राहत की बात ये है कि भारतीय नौसेना के लिए ये खतरा विश्वसनीय साबित होने में अभी वक्त लगेगा, क्योंकि पाकिस्तान की नौसेना के पास वो लॉन्ग रेंज सेंसर नहीं हैं, जिनकी जरुरत भारतीय युद्धक जहाजों पर सटीक निशाना लगाने के लिए चाहिए।