अरुणाचल में भारतीय पेट्रोलिंग पर चीन ने जताई आपत्ति, कहा- ये हमारा इलाका है

अरुणाचल
अरुणाचल में भारतीय पेट्रोलिंग पर चीन ने जताई आपत्ति, कहा-ये हमारा इलाका है

अरुणाचल। चीन के साथ भारत के आमने-सामने आने की नौबत एक बार फिर से बन गई है। डोकलाम विवाद के बाद अब अरुणाचल मुद्दे को लेकर दोनों देशों के बीच तनाव पैदा हो गया है। अरूणाचल प्रदेश में सामरिक रूप से संवेदनशील असाफिला इलाके में सीमा के पास भारतीय जवानों की पेट्रोलिंग को चीन ने अतिक्रमण करार देते हुए पिछले महीने विरोध दर्ज कराया। जिसे भारतीय सेना ने खारिज कर दिया था।

ये है चीन की आपत्ति

चीनी आपत्ति को दरकिनार करते हुए भारतीय सेना ने असफिला क्षेत्र को अरुणाचल प्रदेश के सुबनसिरी क्षेत्र का हिस्सा बताया है। सेना ने यह भी कहा कि यह भारत का भाग है और सेना लंबे समय से इस पर गश्त करती आ रही है। बता दें कि चीन की यह यह आपत्ति 15 मार्च को बॉर्डर पर्सनल मीटिंग के दौरान सामने आई थी। जिसको भारतीय सेना ने की ओर से तत्काल खारिज कर दिया गया था। यह वही क्षेत्र है, जिसमें चीन निर्माण कार्य शुरू करने का प्रयास भी कर चुका है। हालांकि भारत के विरोध के बाद चीन यह निर्माण कार्य बंद कर दिया था। जानकारी के अनुसार असफिला क्षेत्र में चीनी सेना कई बार घुसपैठ कर चुकी है, लेकिन भारतीय सेना ने हर बार इसे हलके में लिया है।

{ यह भी पढ़ें:- डोनॉल्ड ट्रंप हो सकते हैं गणतंत्र दिवस में मुख्य अतिथि, भारत ने भेजा न्योता }

बीपीएम में उठाया मुद्दा, भारत ने किया खारिज

बीपीएम के तहत दोनों ही पक्षों की ओर से किसी भी अतिक्रमण की घटना पर अपना विरोध दर्ज कराया जाता है क्योंकि दोनों देशों के बीच नियंत्रण रेखा को लेकर आपस में अलग-अलग राय है। चीन की सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के प्रतिनिधिमंडल ने विशेष तौर पर असाफिला में भारतीय सेना की तरफ से कड़ी गश्त को उठाया और कहा कि ऐसे ‘उल्लंघन’ से दोनों देशों के बीच इस इलाके में तनाव पैदा हो सकता है।

{ यह भी पढ़ें:- चीन से डरा एयर इण्डिया, वेबसाइट पर ताइवान को लिखा चीनी ताइपे }

अरुणाचल। चीन के साथ भारत के आमने-सामने आने की नौबत एक बार फिर से बन गई है। डोकलाम विवाद के बाद अब अरुणाचल मुद्दे को लेकर दोनों देशों के बीच तनाव पैदा हो गया है। अरूणाचल प्रदेश में सामरिक रूप से संवेदनशील असाफिला इलाके में सीमा के पास भारतीय जवानों की पेट्रोलिंग को चीन ने अतिक्रमण करार देते हुए पिछले महीने विरोध दर्ज कराया। जिसे भारतीय सेना ने खारिज कर दिया था। ये है चीन की आपत्ति चीनी आपत्ति को…
Loading...