चीन ने PM मोदी के अरुणाचल दौरे का किया विरोध, भारत ने दिया करारा जवाब

pm modi
चीन ने PM मोदी के अरुणाचल दौरे का किया विरोध, भारत ने दिया करारा जवाब

नई दिल्ली। चीन ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अरुणाचल प्रदेश दौरे का विरोध करते हुए कहा है कि भारतीय नेतृत्व को ऐसा कोई कदम उठाने से बचना चाहिए, जिससे ‘सीमा विवाद’ जटिल हो जाए। वहीं भारत ने चीन के विरोध पर कड़ा ऐतराज जताया है। भारत ने पलटवार करते हुए कहा है कि अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न हिस्सा है।

China Opposes Pm Narendra Modi Arunachal Pradesh Visit :

आपको बता दें कि पीएम मोदी ने शनिवार को अरुणाचल प्रदेश में 4,000 करोड़ रुपये से ज्यादा के प्रॉजेक्ट्स का उद्घाटन और शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार इस सीमाई राज्य में कनेक्टिविटी में सुधार को बहुत ज्यादा महत्व दे रही है। पीएम मोदी ने कहा कि उनकी सरकार अरुणाचल प्रदेश में हाइवे, रेलवे, एयरवे और बिजली की स्थिति में सुधार को अहमियत दे रही है, जिनको पिछली सरकारों ने नजरअंदाज किया था।

दिल्ली में चीनी विदेश मंत्रालय के बयान का करारा जवाब देते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा, अरुणाचल प्रदेश भारत का अविभाज्य अंग है। भारतीय नेता अक्सर उसी तरह से अरुणाचल प्रदेश का दौरा करते हैं जैसे कि भारत के अन्य राज्यों का। यह स्थिति चीन को बहुत बार बताई जा चुकी है।

इससे पहले चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनिइंग ने कहा, भारत-चीन सीमा को लेकर चीन का रुख बिल्कुल स्पष्ट है। चीन सरकार ने कभी भी अरुणाचल प्रदेश को मान्यता नहीं दी और वहां जब-जब भारतीय नेता गए तब-तब उस पर कड़ा विरोध जताया। इस मसले पर चीन का अनुरोध है कि भारतीय नेता चीनी चिंताओं को समझें। दोनों देशों के हितों को ध्यान में रखते फायदे और चिंता का सम्मान करें।

नई दिल्ली। चीन ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अरुणाचल प्रदेश दौरे का विरोध करते हुए कहा है कि भारतीय नेतृत्व को ऐसा कोई कदम उठाने से बचना चाहिए, जिससे 'सीमा विवाद' जटिल हो जाए। वहीं भारत ने चीन के विरोध पर कड़ा ऐतराज जताया है। भारत ने पलटवार करते हुए कहा है कि अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न हिस्सा है। आपको बता दें कि पीएम मोदी ने शनिवार को अरुणाचल प्रदेश में 4,000 करोड़ रुपये से ज्यादा के प्रॉजेक्ट्स का उद्घाटन और शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार इस सीमाई राज्य में कनेक्टिविटी में सुधार को बहुत ज्यादा महत्व दे रही है। पीएम मोदी ने कहा कि उनकी सरकार अरुणाचल प्रदेश में हाइवे, रेलवे, एयरवे और बिजली की स्थिति में सुधार को अहमियत दे रही है, जिनको पिछली सरकारों ने नजरअंदाज किया था। दिल्ली में चीनी विदेश मंत्रालय के बयान का करारा जवाब देते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा, अरुणाचल प्रदेश भारत का अविभाज्य अंग है। भारतीय नेता अक्सर उसी तरह से अरुणाचल प्रदेश का दौरा करते हैं जैसे कि भारत के अन्य राज्यों का। यह स्थिति चीन को बहुत बार बताई जा चुकी है। इससे पहले चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनिइंग ने कहा, भारत-चीन सीमा को लेकर चीन का रुख बिल्कुल स्पष्ट है। चीन सरकार ने कभी भी अरुणाचल प्रदेश को मान्यता नहीं दी और वहां जब-जब भारतीय नेता गए तब-तब उस पर कड़ा विरोध जताया। इस मसले पर चीन का अनुरोध है कि भारतीय नेता चीनी चिंताओं को समझें। दोनों देशों के हितों को ध्यान में रखते फायदे और चिंता का सम्मान करें।