पूर्वी लद्दाख से पीछे हटा चीन, कई जगहों पर ढाई किलोमीटर पीछे किए सैनिक

india

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच चल रहा तनाव कम होने लगा है। पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेनाएं धीरे—धीरे पीछे हट रहीं हैं। इसको लेकर यह आशंका है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर घटते तनाव का एक संकेत है। पूर्वी लद्दाख के कई इलाकों में दोनों देशों की सेनाएं पूर्व की स्थिति में लौट रही हैं।

China Retreats From Eastern Ladakh Troops Retreat Two And A Half Kilometers In Many Places :

दोनों ओर से जारी तनातनी के बीच यह सुधार तब देखा जा रहा है जब इसी हफ्ते दोनों देशों में सैन्य स्तर की वार्ता होने जा रही है। हालांकि इसके पहले भी सैन्य स्तर की बातचीत हुई थी लेकिन उसका कोई नतीजा नहीं निकला। दोनों देश बातचीत से आपसी विवाद निपटाएंगे, इसकी जानकारी सोमवार को चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने दी थी।

चुनयिंग ने कहा, 6 जून को चीनी और भारतीय सैन्य अधिकारियों के बीच सीमा के हालातों पर विस्तृत बातचीत हुई। दोनों देशों ने राजनयिक और सैन्य स्तर पर सीमा विवाद के मुद्दे को बातचीत के जरिये निपटाने पर बल दिया। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ ने जोर देकर कहा कि चीन और भारत अपने-अपने देशों के समझौतों के आधार पर महत्वपूर्ण आम सहमति को लागू करने पर सहमत हुए हैं।

दोनों देश आपसी मतभेदों को विवाद में बदलने के पक्षधर नहीं हैं। भारत और चीन सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति बनाए रखने के लिए एक साथ काम करते हैं, ताकि द्विपक्षीय संबंधों के स्थिर विकास के लिए अनुकूल माहौल बनाया जा सके। हुआ ने कहा कि सीमा क्षेत्रों में पूरी स्थिति पर गौर करें तो यह आमतौर पर यह स्थिर और नियंत्रण में है।

 

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच चल रहा तनाव कम होने लगा है। पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेनाएं धीरे—धीरे पीछे हट रहीं हैं। इसको लेकर यह आशंका है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर घटते तनाव का एक संकेत है। पूर्वी लद्दाख के कई इलाकों में दोनों देशों की सेनाएं पूर्व की स्थिति में लौट रही हैं। दोनों ओर से जारी तनातनी के बीच यह सुधार तब देखा जा रहा है जब इसी हफ्ते दोनों देशों में सैन्य स्तर की वार्ता होने जा रही है। हालांकि इसके पहले भी सैन्य स्तर की बातचीत हुई थी लेकिन उसका कोई नतीजा नहीं निकला। दोनों देश बातचीत से आपसी विवाद निपटाएंगे, इसकी जानकारी सोमवार को चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने दी थी। चुनयिंग ने कहा, 6 जून को चीनी और भारतीय सैन्य अधिकारियों के बीच सीमा के हालातों पर विस्तृत बातचीत हुई। दोनों देशों ने राजनयिक और सैन्य स्तर पर सीमा विवाद के मुद्दे को बातचीत के जरिये निपटाने पर बल दिया। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ ने जोर देकर कहा कि चीन और भारत अपने-अपने देशों के समझौतों के आधार पर महत्वपूर्ण आम सहमति को लागू करने पर सहमत हुए हैं। दोनों देश आपसी मतभेदों को विवाद में बदलने के पक्षधर नहीं हैं। भारत और चीन सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति बनाए रखने के लिए एक साथ काम करते हैं, ताकि द्विपक्षीय संबंधों के स्थिर विकास के लिए अनुकूल माहौल बनाया जा सके। हुआ ने कहा कि सीमा क्षेत्रों में पूरी स्थिति पर गौर करें तो यह आमतौर पर यह स्थिर और नियंत्रण में है।