लद्दाख में सड़क निर्माण को लेकर बौखलाया चीन

नई दिल्ली। डोकलाम पर बढ़ते विवाद के बीच लद्दाख के पेपोंग झील इलाके में सड़क निर्माण की परियोजनाओं को भारत से मंजूरी मिलने के बाद चीन बौखला उठा है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा, भारत ने लद्दाख में सड़क निर्माण को मंजूरी देकर अपने ही पैर पर कुल्हाड़ी मारी है। भारत जो भी कहता है वह कभी नहीं करता, भारत की बातों में विरोधाभास है।

भारत ने हाल ही में लद्दाख में सड़क निर्माण को सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए रुकवा दिया था। जिसके बाद चीन को भी डोकलाम में सड़क निर्माण रोकना पड़ा था। चीनी प्रवक्ता ने कहा, भारत का यह कदम दोनों देशों के बीच शांति और स्थिरता को भंग कर सकता है। भारत और चीन के बीच की सीमाओं को अभी तक रेखांकित नहीं किया गया है।

{ यह भी पढ़ें:- पीएम मोदी और शी जिनपिंग के बीच द्विपक्षीय वार्ता }

भारत और चीन के बीच लद्दाख में 700 किलोमीटर सीमा रेखा है। जिसे लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल के नाम से जाना जाता है। यह पूरा इलाका दुर्गम पहाड़ियों से घिरा हुआ है।

गृह मंत्रालय ने दी मंजूरी-

{ यह भी पढ़ें:- ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा लेने पहुंचे पीएम मोदी, शी जिनपिंग से मुलाक़ात की संभावना }

बताते चलें कि गृह मंत्रालय ने कथित तौर पर लद्दाख में मर्सिमिक ला से हॉट स्प्रिंग तक एक खास सड़क निर्माण परियोजना को मंजूरी दी है। मार्सिमिक ला पैंगांग झील के उत्‍तर-पश्चिमी सिरे से 20 किमी की दूरी पर स्थित है। हाल ही में यहीं पर चीनी-भारतीय जवानों के बीच पत्‍थरबाजी का एक वीडियो काफी वायरल हुआ था। चीनी गतिविधियों पर सुरक्षा बल नजर रख सकें, यह सुनिश्चित करने के लिए ही मंत्रालय ने सड़क निर्माण संगठन (बीआरओ) को सड़क निर्माण का जिम्‍मा सौंप दिया है।