उत्तर कोरिया पर सख्त हुआ चीन, तेल और गैस सप्लाई की घटाई सीमा

north-korea

नई दिल्ली। चीन ने शनिवार को उत्तर कोरिया को स्टील और अन्य धातुओं के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के अनुरूप कच्चा तेल और पेट्रोलियम उत्पादों की आपूर्ति को सीमित कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक, शुक्रवार को एक बयान में वाणिज्य मंत्रालय ने उत्तर कोरिया को लोहा, स्टील और अन्य धातुओं, औद्योगिक मशीनरी और परिवहन वाहनों की बिक्री पर पूरी तरह से रोक लगाने की घोषणा की है।

China Stick On North Korea The Reduction Limit Of Oil And Gas Supply :

बयान में यह भी कहा गया है कि किसी भी 12 महीने की अवधि के दौरान देश से कच्चे तेल का निर्यात चालीस लाख बैरल या 525,000 टन से ज्यादा नहीं होना चाहिए, जबकि 2018 में परिष्कृत पेट्रोलियम उत्पादों की सीमा 500,000 बैरल की सीमा तक पहुंचने पर इनकी बिक्री रोक दी जाएगी। चीन ने उत्तर कोरिया से कुछ उत्पादों के आयात पर रोक लगा दी है, जिसमें सोया, अनाज और अन्य कृषि उत्पादों, कुछ खनिज, लकड़ी और बिजली के उपकरण शामिल हैं।

किम जोंग-उन के शासन में उत्तर कोरिया द्वारा हालिया बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण के जवाब में संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव 2397 को अमल में लाते हुए चीन ने इन प्रतिबंधों की घोषणा की है।

नई दिल्ली। चीन ने शनिवार को उत्तर कोरिया को स्टील और अन्य धातुओं के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के अनुरूप कच्चा तेल और पेट्रोलियम उत्पादों की आपूर्ति को सीमित कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक, शुक्रवार को एक बयान में वाणिज्य मंत्रालय ने उत्तर कोरिया को लोहा, स्टील और अन्य धातुओं, औद्योगिक मशीनरी और परिवहन वाहनों की बिक्री पर पूरी तरह से रोक लगाने की घोषणा की है।बयान में यह भी कहा गया है कि किसी भी 12 महीने की अवधि के दौरान देश से कच्चे तेल का निर्यात चालीस लाख बैरल या 525,000 टन से ज्यादा नहीं होना चाहिए, जबकि 2018 में परिष्कृत पेट्रोलियम उत्पादों की सीमा 500,000 बैरल की सीमा तक पहुंचने पर इनकी बिक्री रोक दी जाएगी। चीन ने उत्तर कोरिया से कुछ उत्पादों के आयात पर रोक लगा दी है, जिसमें सोया, अनाज और अन्य कृषि उत्पादों, कुछ खनिज, लकड़ी और बिजली के उपकरण शामिल हैं।किम जोंग-उन के शासन में उत्तर कोरिया द्वारा हालिया बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण के जवाब में संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव 2397 को अमल में लाते हुए चीन ने इन प्रतिबंधों की घोषणा की है।