1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. Hypersonic Cruise Missile का चीन ने किया परीक्षण, पूरी दुनिया की बढ़ी टेंशन

Hypersonic Cruise Missile का चीन ने किया परीक्षण, पूरी दुनिया की बढ़ी टेंशन

पूरी दुनिया पर हुकूमत करने के अपने मंसूबों पर चीन (China) लगातार काम कर रहा है। इस दिशा में कदम बढ़ाते हुए उसने नया हथियार हाइपरसोनिक क्रूज मिसाइल (Hypersonic Cruise Missile) हो सकती है। मिली जानकारी के अनुसार यह मिसाइल स्पेस क्षमताओं से लैस है। फाइनेंशियल टाइम्स में प्रकाशित चौंकाने वाली रिपाेर्ट में पूरी दुनिया दहशत में डाल दिया है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

बीजिंग। पूरी दुनिया पर हुकूमत करने के अपने मंसूबों पर चीन (China) लगातार काम कर रहा है। इस दिशा में कदम बढ़ाते हुए उसने नया हथियार हाइपरसोनिक क्रूज मिसाइल (Hypersonic Cruise Missile) हो सकती है। मिली जानकारी के अनुसार यह मिसाइल स्पेस क्षमताओं से लैस है। फाइनेंशियल टाइम्स में प्रकाशित चौंकाने वाली रिपाेर्ट में पूरी दुनिया दहशत में डाल दिया है। इस रिपोर्ट में बताया गया कि चीन ने एक नई अंतरिक्ष क्षमताओं से लैस हाइपरसोनिक मिसाइल (space capability with a hypersonic missile) का टेस्ट किया है। बीजिंग (Beijing) ने अगस्त में इस परमाणु-सक्षम मिसाइल (Nuclear-Capable Missile) लॉन्च की थी, जो अपने टारगेट पर जाने से पहले पृथ्वी की निचली कक्षा में चक्कर लगाई थी। हालांकि रिपोर्ट में कहा गया कि यह मिसाइल टारगेट से 20 मील यानी 32 किलोमीटर से चूक गई।

पढ़ें :- Firing In Nagaland: सुरक्षाबलों की फायरिंग में 6 से ज्यादा की मौत, अमित शाह ट्वीट कर बोले- दुर्भाग्यपूर्ण घटना से दुखी हूं...

हाइपरसोनिक ग्लाइड व्हीकल (Hypersonic Glide Vehicle) को लॉन्ग मार्च रॉकेट द्वारा ले जाया गया था। वैसे तो अक्सर इसके लॉन्च की घोषणा की जाती है, लेकिन इस बार अगस्त में इस टेस्टिंग को गुप्त रखा गया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि हाइपरसोनिक हथियारों को चीन द्वारा विकसित किए जाने को लेकर अमेरिका भी दहशत में है। बता दें कि चीन के साथ, संयुक्त राज्य अमेरिका, रूस और कम से कम पांच अन्य देश हाइपरसोनिक तकनीक पर काम कर रहे हैं।

जानें क्या होती हैं हाइपरसोनिक मिसाइलें?

हाइपरसोनिक मिसाइलें (Hypersonic Missile)  पारंपरिक बैलिस्टिक मिसाइलों (Ballistic Missiles)  की तरह ही होती हैं। यह परमाणु हथियार ले सकने में दक्ष हैं और ये साउंड की गति से पांच गुना से अधिक तेज स्पीड से लॉन्च हो सकती हैं। बैलिस्टिक मिसाइलें (Ballistic Missiles) अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए एक चाप में अंतरिक्ष में ऊंची उड़ान भरती हैं, जबकि हाइपरसोनिक मिसाइल (Hypersonic Missile) वायुमंडल के निचले हिस्से में जाकर अधिक तेज गति से अपने टारगेट तक पहुंचती है।

क्याें खतरनाक है हाइपरसोनिक मिसाइल?

पढ़ें :-  World Soil Day 2021: आज है विश्व मृदा दिवस, मिट्टी प्रबंधन के महत्व लिए ये दिन है समर्पित

एक हाइपरसोनिक मिसाइल (Hypersonic Missile)   कहीं भी और किसी भी पोजिशन (बहुत धीमी, अक्सर सबसोनिक क्रूज मिसाइल की तरह) में जाने में सक्षम हैं। दुश्मनों को इसे ट्रैक करना और इससे बचाव करना मुश्किल हो जाता है। अमेरिका जैसे देशों ने क्रूज और बैलिस्टिक मिसाइलों (Ballistic Missiles)  से बचाव के लिए डिजाइन किए गए सिस्टम विकसित कर लिए हैं। वहीं, हाइपरसोनिक मिसाइल (Hypersonic Missile)   को ट्रैक करना और नीचे गिराना अभी भी नामुमकिन बना हुआ है।

अमेरिकी चिंता का कारण

अमेरिकी कांग्रेसनल रिसर्च सर्विस (CRS) की एक हालिया रिपोर्ट में इस बात पर चिंता जताई कि चीन (China) आक्रामक तरीके से हाइपरसोनिक मिसाइल (Hypersonic Missile)  और अन्य मिसाइल टेक्नोलॉजी को विकसित कर रहा है। यह अमेरिकी की ताकत को एक तरह चुनौती है। रिपोर्ट बताया गया कि इस मिसाइल टेस्टिंग (Missile Testing) के बाद चीन-अमेरिका में बीच तनाव उत्पन्न हो गया है। वहीं, बीजिंग (Beijing) ने ताइवान (Taiwan) के पास सैन्य गतिविधि को भी तेज कर दिया है। उसे वापस अपना हिस्सा बनाना चाहता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...