59 ऐप पर प्रतिबंध लगने के बाद परेशान हुआ चीन, बोला-मामले की ले रहे हैं जानकारी

china
59 ऐप पर प्रतिबंध लगने के बाद परेशान हुआ चीन, बोला—मामले की ले रहे हैं जानकारी

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच तनाव जारी है। इस बीच भारत सरकार ने चीन पर डिजिटल तरीके से सर्जिकल स्ट्राइक किया है। भारत सरकार ने सोमवार को 59 चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस प्रतिबंध के बाद चीन चिंतित हो गया है। चीन के विदेश मंत्रालय ने चिंता जाहिर की है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा कि इस पूरे मसले पर चीन बहुत चिंतित है और पूरे मामले की जानकारी ली जा रही है।

China Upset After Banning 59 Apps Said Information About The Case :

देश की सुरक्षा पर खतरे वाले ऐप पर मोदी सरकार ने सोमवार को बड़ा एक्शन लिया। मोदी सरकार ने चीन के 59 ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया। चीन के दूसरे ऐप जिनसे देश की सुरक्षा को खतरा हो सकता है उन पर पाबंदी लगाने की तैयारी शुरु हो चुकी है। संचार मंत्रालय इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर को किसी भी ऐप का डेटा रोकने को कह सकता है।

इन सभी ऐप का डेटा अगले एक-दो दिन में रोक दिया जाएगा। गूगल प्ले स्टोर से ये ऐप हटा दी गई हैं। इनके अपडेट भी नहीं मिलेंगे। आपको बता दें कि ये प्रतिबंध अंतरिम है। अब मामला एक समिति के पास जाएगा। प्रतिबंधित ऐप समिति के सामने अपना पक्ष रख सकती हैं इसके बाद समिति तय करेगी कि प्रतिबंध जारी रखा जाए या हटा दिया जाए।

इस बीच भारत-चीन के बीच ताजा तनातनी की चपेट में एक और चीनी कंपनी हुवै भी आ सकती है। हुवै भारत में 5G सेवाओं का एक प्रमुख दावेदार है। भारत में 5G की नीलामी फिलहाल एक साल के लिए टाली गई है, लेकिन पिछले साल हुवै को 5G ट्रायल में भाग लेने की अनुमति दी गई थी।

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच तनाव जारी है। इस बीच भारत सरकार ने चीन पर डिजिटल तरीके से सर्जिकल स्ट्राइक किया है। भारत सरकार ने सोमवार को 59 चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस प्रतिबंध के बाद चीन चिंतित हो गया है। चीन के विदेश मंत्रालय ने चिंता जाहिर की है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा कि इस पूरे मसले पर चीन बहुत चिंतित है और पूरे मामले की जानकारी ली जा रही है। देश की सुरक्षा पर खतरे वाले ऐप पर मोदी सरकार ने सोमवार को बड़ा एक्शन लिया। मोदी सरकार ने चीन के 59 ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया। चीन के दूसरे ऐप जिनसे देश की सुरक्षा को खतरा हो सकता है उन पर पाबंदी लगाने की तैयारी शुरु हो चुकी है। संचार मंत्रालय इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर को किसी भी ऐप का डेटा रोकने को कह सकता है। इन सभी ऐप का डेटा अगले एक-दो दिन में रोक दिया जाएगा। गूगल प्ले स्टोर से ये ऐप हटा दी गई हैं। इनके अपडेट भी नहीं मिलेंगे। आपको बता दें कि ये प्रतिबंध अंतरिम है। अब मामला एक समिति के पास जाएगा। प्रतिबंधित ऐप समिति के सामने अपना पक्ष रख सकती हैं इसके बाद समिति तय करेगी कि प्रतिबंध जारी रखा जाए या हटा दिया जाए। इस बीच भारत-चीन के बीच ताजा तनातनी की चपेट में एक और चीनी कंपनी हुवै भी आ सकती है। हुवै भारत में 5G सेवाओं का एक प्रमुख दावेदार है। भारत में 5G की नीलामी फिलहाल एक साल के लिए टाली गई है, लेकिन पिछले साल हुवै को 5G ट्रायल में भाग लेने की अनुमति दी गई थी।