जमीन का एक इंच भी नहीं देंगे, खूनी संघर्ष के लिए तैयार हैं : शी चिनफिंग

जमीन का एक इंच भी नहीं देंगे, खूनी संघर्ष के लिए तैयार हैं : शी चिनफिंग
जमीन का एक इंच भी नहीं देंगे, खूनी संघर्ष के लिए तैयार हैं : शी चिनफिंग

बीजिंग। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने मंगलवार को कहा कि चीन अपनी जमीन का एक इंच भी नहीं देगा और देश अपने दुश्मनों के साथ खूनी संघर्ष के लिए तैयार है। शी ने चीन की संसद नेशनल पीपुल्स कांग्रेस के वार्षिक सत्र में कहा, “हम हमारी जमीन का एक इंच टुकड़ा भी किसी का नहीं देंगे और इसे चीन से कोई ले भी नहीं सकता। शी ने ग्रेट हॉल में कहा, “हम अपने दुश्मनों के खिलाफ खूनी लड़ाई लड़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

China Will Guard Its Sovereignty Not Concede An Inch Of Land Says President Xi Jinping :

अलाववादियों को दिया संदेश
चीन ताइवान को भी अपना हिस्सा मानता है। शी ने अलगाववादियों को निशाने पर लेते हुए कहा कि चीन के लोगों में अलगावादियों के कदमों को विफल बनाने का दृढ़ निश्चय, विश्वास और क्षमता है। अपने भाषण में उन्होंन बौद्ध धर्मगुरू दलाई लामा को ‘विभाजनकारी’ कहा। इससे पहले भी चीन दलाई लामा के लिए कड़े शब्दों का इस्तेमाल करता रहा है। चीन सरकार ने एक बार कहा था कि दलाई लामा ‘भिक्षु के भेष में अलगाववादी हैं।’

अमेरिका पर चुटकी
हालांकि, शी जिनपिंग ने अपने लोगों का सेवक बताते हुए कहा कि चीन शांतिपूर्वक विकास के मार्ग पर बने रहेंगे। वहीं, चीन की बढ़ती ताकत को लेकर शी ने दुनिया को संदेश देते हुए कहा कि उनका विकास किसी भी अन्य देश के लिए खतरा साबित नहीं होगा। अंत में शी जिनपिंग ने अमेरिका पर चुटकी लेते हुए कहा, ‘चीन कभी भी सत्ता के विस्तार में शामिल नहीं होगा। यह उनके लिए है जो हर किसी को धमकी के रूप में देखते हुए दूसरों को धमकी देते हुए फिरते हैं।’

बीजिंग। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने मंगलवार को कहा कि चीन अपनी जमीन का एक इंच भी नहीं देगा और देश अपने दुश्मनों के साथ खूनी संघर्ष के लिए तैयार है। शी ने चीन की संसद नेशनल पीपुल्स कांग्रेस के वार्षिक सत्र में कहा, "हम हमारी जमीन का एक इंच टुकड़ा भी किसी का नहीं देंगे और इसे चीन से कोई ले भी नहीं सकता। शी ने ग्रेट हॉल में कहा, "हम अपने दुश्मनों के खिलाफ खूनी लड़ाई लड़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं।अलाववादियों को दिया संदेश चीन ताइवान को भी अपना हिस्सा मानता है। शी ने अलगाववादियों को निशाने पर लेते हुए कहा कि चीन के लोगों में अलगावादियों के कदमों को विफल बनाने का दृढ़ निश्चय, विश्वास और क्षमता है। अपने भाषण में उन्होंन बौद्ध धर्मगुरू दलाई लामा को 'विभाजनकारी' कहा। इससे पहले भी चीन दलाई लामा के लिए कड़े शब्दों का इस्तेमाल करता रहा है। चीन सरकार ने एक बार कहा था कि दलाई लामा 'भिक्षु के भेष में अलगाववादी हैं।'अमेरिका पर चुटकी हालांकि, शी जिनपिंग ने अपने लोगों का सेवक बताते हुए कहा कि चीन शांतिपूर्वक विकास के मार्ग पर बने रहेंगे। वहीं, चीन की बढ़ती ताकत को लेकर शी ने दुनिया को संदेश देते हुए कहा कि उनका विकास किसी भी अन्य देश के लिए खतरा साबित नहीं होगा। अंत में शी जिनपिंग ने अमेरिका पर चुटकी लेते हुए कहा, 'चीन कभी भी सत्ता के विस्तार में शामिल नहीं होगा। यह उनके लिए है जो हर किसी को धमकी के रूप में देखते हुए दूसरों को धमकी देते हुए फिरते हैं।'