‘ड्रैगन’ की गिरफ्त में पाकिस्‍तान, ग्‍वादर में अपने 5 लाख लोगों को बसाएगा चीन

'ड्रैगन' की गिरफ्त में पाकिस्‍तान, ग्‍वादर में अपने 5 लाख लोगों को बसाएगा चीन
'ड्रैगन' की गिरफ्त में पाकिस्‍तान, ग्‍वादर में अपने 5 लाख लोगों को बसाएगा चीन

नई दिल्ली। भारत का पड़ोसी मुल्‍क चीन अब पाकिस्‍तान में एक नया शहर बसाने की तैयारी में जुटा है। चीन पाकिस्तान इकोनॉमिक कोरिडोर (सीपीईसी) के अंतर्गत चीन अपने 5 लाख नागरिकों के लिए पाकिस्तान के ग्वादर में एक शहर बसाने जा रहा है। इस शहर को बनाने में ड्रैगन 15 करोड़ रुपए खर्च करेगा। चीन का दक्षिण एशिया में यह अपनी तरह का पहला शहर होगा। माना जा रहा है कि पाकिस्तान के बंदरगाह शहर में इस प्रस्तावित शहर में 2022 से करीब 5 लाख लोग रहेंगे।

Chinese Imperialism Colony Gwadar Pakistan 5 Million Citizens :

जानकारी के मुताबिक, चीन ने पाकिस्तान इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन ने 36 लाख वर्ग फुट की इंटरनैशनल पोर्ट सिटी को खरीदा है। इस पर वह 15 करोड़ डॉलर में एक रेजिडेंशल प्रॉजेक्ट बनाएगा। यहां 2022 से 5 लाख कर्मचारी रहने लगेंगे। चीन ने अफ्रीका और सेंट्रल एशिया में प्रॉजेक्ट्स पर काम करने वाले अपने नागरिकों के लिए वहां कॉम्प्लेक्स और सब सिटी तैयार किए हैं। चीनी नागरिकों पर आरोप है कि उन्होंने पूर्वी रूस और म्यांमार के उत्तरी में कुछ हिस्सों पर कब्जा कर लिया है। चीनी नागरिकों के लिए इस तरह के रेजिडेंशल प्रॉजेक्ट्स को लेकर स्थानीय लोगों में नाराजगी है।

अगर चीन की यह परियोजना सफल होती है तो वर्ल्ड ट्रेड में चीन का दखल और बढ़ेगा। ग्वादर को कार्गो शिप की आवाजाही के लिए तैयार किया जा रहा है। इसके तहत नौ बिल्डिंग और समुद्र के किनारे करीब 3.2 किमी का मल्टीपर्पज बर्थ बनाने की योजना है।

नई दिल्ली। भारत का पड़ोसी मुल्‍क चीन अब पाकिस्‍तान में एक नया शहर बसाने की तैयारी में जुटा है। चीन पाकिस्तान इकोनॉमिक कोरिडोर (सीपीईसी) के अंतर्गत चीन अपने 5 लाख नागरिकों के लिए पाकिस्तान के ग्वादर में एक शहर बसाने जा रहा है। इस शहर को बनाने में ड्रैगन 15 करोड़ रुपए खर्च करेगा। चीन का दक्षिण एशिया में यह अपनी तरह का पहला शहर होगा। माना जा रहा है कि पाकिस्तान के बंदरगाह शहर में इस प्रस्तावित शहर में 2022 से करीब 5 लाख लोग रहेंगे। जानकारी के मुताबिक, चीन ने पाकिस्तान इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन ने 36 लाख वर्ग फुट की इंटरनैशनल पोर्ट सिटी को खरीदा है। इस पर वह 15 करोड़ डॉलर में एक रेजिडेंशल प्रॉजेक्ट बनाएगा। यहां 2022 से 5 लाख कर्मचारी रहने लगेंगे। चीन ने अफ्रीका और सेंट्रल एशिया में प्रॉजेक्ट्स पर काम करने वाले अपने नागरिकों के लिए वहां कॉम्प्लेक्स और सब सिटी तैयार किए हैं। चीनी नागरिकों पर आरोप है कि उन्होंने पूर्वी रूस और म्यांमार के उत्तरी में कुछ हिस्सों पर कब्जा कर लिया है। चीनी नागरिकों के लिए इस तरह के रेजिडेंशल प्रॉजेक्ट्स को लेकर स्थानीय लोगों में नाराजगी है। अगर चीन की यह परियोजना सफल होती है तो वर्ल्ड ट्रेड में चीन का दखल और बढ़ेगा। ग्वादर को कार्गो शिप की आवाजाही के लिए तैयार किया जा रहा है। इसके तहत नौ बिल्डिंग और समुद्र के किनारे करीब 3.2 किमी का मल्टीपर्पज बर्थ बनाने की योजना है।