11 अक्तूबर को भारत आएंगे चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग, चेन्नई में पीएम मोदी से करेंगे

modi jinpink
11 अक्तूबर को भारत आएंगे चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग, चेन्नई में पीएम मोदी से करेंगे

नई दिल्ली। चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग 11 अक्टूबर को भारत दौरे पर आएंगे। यहां वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ चेन्नई में एक शिखर वार्ता करेंगे। विदेश मंत्रालय ने बुधवार को यह घोषणा की। विदेश मंत्रालय ने कहा कि ये शिखर वार्ता दोनों नेताओं को द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक महत्व के व्यापक मुद्दों पर बातचीत जारी रखने का अवसर प्रदान करेगी। दोनों वैश्विक नेता चार अलग-अलग बैठकें करेंगे जिसकी समयावधि पांच घंटे तक होगी। इस दौरान पीएम मोदी और चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग समुद्र किनारे बने रिसॉर्ट में रहेंगे जहां से बंगाल की खाड़ी का नजारा दिखता है।

Chinese President Jinping To Visit India On October 11 Will Meet Pm Modi In Chennai :

विदेश मंत्रालय ने कहा कि प्रधानमंत्री के आमंत्रण पर चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग अनौपचारिक शिखर वार्ता के लिए 11 -12 अक्टूबर 2019 को चेन्नई में होंगे। शिखर वार्ता चेन्नई के समीप प्राचीन तटीय शहर मामल्लापुरम में होगी। मंत्रालय ने कहा कि शिखर वार्ता के दौरान दोनों देश भारत-चीन विकास साझेदारी को गहरा करने पर विचार विमर्श करेंगे।

यह है पूरा कार्यक्रम

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग शुक्रवार को अपराह्न 13:20 बजे चेन्नई पहुंचेंगे। जिनपिंग निर्धारित कार्यक्रम यहां के गुइंडी स्थित एक होटल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ द्विपक्षीय तथा व्यापारिक मुद्दों पर वार्ता करेंगे, जिसको लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं। जिनपिंग के हवाई अड्डे पर पहुंचने के बाद पारंपरिक नृत्य तथा संगीत के जरिये उनका स्वागत किया जाएगा और इसके बाद वह 13:45 बजे होटल पहुंचेंगे।

जिनपिंग होटल में थोड़ी देर ठहरने के बाद सड़क मार्ग से चेन्नई से लगभग 55 किलोमीटर दूर महाबलीपुरम रवाना होंगे, जहां वह पीएम मोदी के साथ शाम पांच बजे ‘अजुर्न पेनांस’, पांच बजकर 20 मिनट पर पांच रथ तथा पांच बजकर 45 मिनट पर प्रसिद्ध शोर मंदिर जाएंगे। जिनपिंग यहां सांस्कृतिक समारोह में शामिल होने और महत्वपूर्ण नेताओं से मुलाकात करने के बाद रात नौ बजे होटल लौट आएंगे।

चीन के राष्ट्रपति 12 अक्टूबर को सुबह नौ बजे तटीय शहर रवाना हो जाएंगे, जहां पर वह पीएम मोदी के साथ द्विपक्षीय वार्ता करेंगे। पीएम मोदी के साथ भोजन करने के बाद जिनपिंग 1315 बजे चेन्नई लौट आएंगे और इसके बाद अपराह्न 14:20 चीन रवाना हो जाएंगे।

नहीं होगा कोई समझौता

सूत्रों के अनुसार, अनौपचारिक बैठक होने के कारण चीनी राष्ट्रपति के इस यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच किसी भी तरह के किसी समझौता या समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर नहीं होंगे और न ही कोई संयुक्त विज्ञप्ति जारी की जाएगी। बताया जा रहा है कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ चीन के विदेश मंत्री और पोलित ब्यूरो सदस्य भी भारत आएंगे।

कई विषयों पर होगी चर्चा

दोनों नेताओं के बीच बैठक में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एनएसी) को स्थिर रखने और व्यापार संबंध चर्चा के केंद्र बिंदु हो सकते हैं। बैठक में सीमा विवाद समाधान के अगले चरण की योजना बनाने और व्यापार घाटे को कम करने के लिए चीन को अधिक भारतीय उत्पादों का निर्यात करने के उपायों पर चर्चा हो सकती है। इसके अलावा बांग्लादेश-चीन-भारत-म्यांमार गलियारे की प्रगति पर भी ध्यान दिया जाएगा क्योंकि यह बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव से बाहर है। बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शी जिनपिंग को इस बात का आश्वासन देंगे कि अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को खत्म करने के बाद जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र प्रशासित प्रदेश में तब्दील करने से वास्तविक नियंत्रण रेखा प्रभावित नहीं होगी।

नई दिल्ली। चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग 11 अक्टूबर को भारत दौरे पर आएंगे। यहां वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ चेन्नई में एक शिखर वार्ता करेंगे। विदेश मंत्रालय ने बुधवार को यह घोषणा की। विदेश मंत्रालय ने कहा कि ये शिखर वार्ता दोनों नेताओं को द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक महत्व के व्यापक मुद्दों पर बातचीत जारी रखने का अवसर प्रदान करेगी। दोनों वैश्विक नेता चार अलग-अलग बैठकें करेंगे जिसकी समयावधि पांच घंटे तक होगी। इस दौरान पीएम मोदी और चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग समुद्र किनारे बने रिसॉर्ट में रहेंगे जहां से बंगाल की खाड़ी का नजारा दिखता है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि प्रधानमंत्री के आमंत्रण पर चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग अनौपचारिक शिखर वार्ता के लिए 11 -12 अक्टूबर 2019 को चेन्नई में होंगे। शिखर वार्ता चेन्नई के समीप प्राचीन तटीय शहर मामल्लापुरम में होगी। मंत्रालय ने कहा कि शिखर वार्ता के दौरान दोनों देश भारत-चीन विकास साझेदारी को गहरा करने पर विचार विमर्श करेंगे।

यह है पूरा कार्यक्रम

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग शुक्रवार को अपराह्न 13:20 बजे चेन्नई पहुंचेंगे। जिनपिंग निर्धारित कार्यक्रम यहां के गुइंडी स्थित एक होटल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ द्विपक्षीय तथा व्यापारिक मुद्दों पर वार्ता करेंगे, जिसको लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं। जिनपिंग के हवाई अड्डे पर पहुंचने के बाद पारंपरिक नृत्य तथा संगीत के जरिये उनका स्वागत किया जाएगा और इसके बाद वह 13:45 बजे होटल पहुंचेंगे। जिनपिंग होटल में थोड़ी देर ठहरने के बाद सड़क मार्ग से चेन्नई से लगभग 55 किलोमीटर दूर महाबलीपुरम रवाना होंगे, जहां वह पीएम मोदी के साथ शाम पांच बजे 'अजुर्न पेनांस', पांच बजकर 20 मिनट पर पांच रथ तथा पांच बजकर 45 मिनट पर प्रसिद्ध शोर मंदिर जाएंगे। जिनपिंग यहां सांस्कृतिक समारोह में शामिल होने और महत्वपूर्ण नेताओं से मुलाकात करने के बाद रात नौ बजे होटल लौट आएंगे। चीन के राष्ट्रपति 12 अक्टूबर को सुबह नौ बजे तटीय शहर रवाना हो जाएंगे, जहां पर वह पीएम मोदी के साथ द्विपक्षीय वार्ता करेंगे। पीएम मोदी के साथ भोजन करने के बाद जिनपिंग 1315 बजे चेन्नई लौट आएंगे और इसके बाद अपराह्न 14:20 चीन रवाना हो जाएंगे।

नहीं होगा कोई समझौता

सूत्रों के अनुसार, अनौपचारिक बैठक होने के कारण चीनी राष्ट्रपति के इस यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच किसी भी तरह के किसी समझौता या समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर नहीं होंगे और न ही कोई संयुक्त विज्ञप्ति जारी की जाएगी। बताया जा रहा है कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ चीन के विदेश मंत्री और पोलित ब्यूरो सदस्य भी भारत आएंगे।

कई विषयों पर होगी चर्चा

दोनों नेताओं के बीच बैठक में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एनएसी) को स्थिर रखने और व्यापार संबंध चर्चा के केंद्र बिंदु हो सकते हैं। बैठक में सीमा विवाद समाधान के अगले चरण की योजना बनाने और व्यापार घाटे को कम करने के लिए चीन को अधिक भारतीय उत्पादों का निर्यात करने के उपायों पर चर्चा हो सकती है। इसके अलावा बांग्लादेश-चीन-भारत-म्यांमार गलियारे की प्रगति पर भी ध्यान दिया जाएगा क्योंकि यह बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव से बाहर है। बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शी जिनपिंग को इस बात का आश्वासन देंगे कि अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को खत्म करने के बाद जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र प्रशासित प्रदेश में तब्दील करने से वास्तविक नियंत्रण रेखा प्रभावित नहीं होगी।