1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. Christmas 2021: इस चर्च में 60 हजार लोग एक साथ कर सकते हैं प्रेयर, दुनिया के चर्चों के बारे में जानिए

Christmas 2021: इस चर्च में 60 हजार लोग एक साथ कर सकते हैं प्रेयर, दुनिया के चर्चों के बारे में जानिए

क्रिसमस प्रभु यीशु के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है।साल भर से इंतजार करने के बाद 25 दिसंबर को प्रभु यीशु जन्म के दिन ये खुशियों का त्योहार मनाया जाता है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Christmas 2021: क्रिसमस प्रभु यीशु के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है।साल भर से इंतजार करने के बाद 25 दिसंबर को प्रभु यीशु जन्म के दिन ये खुशियों का त्योहार मनाया जाता है। इस दिन चर्चों को सजाया जाता है और यहां विशेष प्रार्थनाएं भी की जाती हैं।आईये जाते है इन चर्चों के बारे में खास बातें।

पढ़ें :- Asaram Bapu News: आसाराम बापू को लगा बड़ा झटका, शिष्या से दुष्कर्म मामले में दोषी करार

सेंट पीटर बेसेलिका
रोम की वेटिकन सिटी में स्थित सेंट पीटर बेसेलिका में एक साथ 60000 लोग प्रार्थना कर सकते हैं। यह चर्च विश्व की सबसे बड़ी धार्मिक इमारत है। इस चर्च की बनावट भी बहुत खूबसूरत है। बेसिलिका सेंट पीटर का दफन स्थल है, जो यीशु के प्रेरितों में प्रमुख है।

लॉस लॉजास केथेड्रल चर्च
लॉस लॉजास केथेड्रल चर्च सन् 1916 में कंबोडिया में बनाया गया। एक किवदंती के अनुसार यहां वर्जिन मेरी खुद प्रकट हुई थी। इसके अनुसार मारिया मुसेस नाम की एक महिला जो अपने गूंगे बहरे बच्चे रोजा को पीठ पर लेकर पहाड़ चढ़ रही थी। वह पहाड़ पर चढ़कर थकान के कारण एक जगह पर बैठ गई। उसी ने अपने बच्चे के साथ यहां घूमते हुए वर्जिन मेरी की रहस्यमयी तस्वीर की खोज की उसके बाद यहां इस चर्च का निर्माण किया गया।

लॉ सागारदा चर्च
बार्सिलोना स्पेन में स्थित लॉ सागारदा चर्च यह चर्च दुनिया के सबसे आकर्षक चर्च में से एक है। इसका निर्माण सन् 1882 में शुरू किया गया। इस चर्च में 18 खूबसूरत टावर बनाए गए हैं।

बेसिल केथेड्रल चर्च
यह चर्च रशिया के मास्को शहर में है। इसका नाम संत बेसिल के नाम पर रखा गया है।इसके खूबसूरत गुंबद किसी का भी ध्यान अपनी तरफ आकर्षित कर लेते हैं।

पढ़ें :- Pakistan Bomb BlastNews: पाकिस्तान में नमाज़ के दौरान मस्जिद में आत्मघाती हमला, 17 की मौत, 90 से ज्यादा घायल

हागिया सोफिया
हागिया सोफिया दुनिया के प्राचीन और आकर्षक चर्च में से एक है। हालांकि, यह अब इस्तांबुल का एक संग्रहालय है, लेकिन इसे बीजान्टिन वास्तुकला का सबसे बेहतरीन नमूना माना जाता है। इस चर्च का निर्माण बीजान्टिन सम्राट जस्टीनिन के द्वारा पूरा किया गया था।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...