राजनाथ ने की सीआईएसएफ की सराहना, कहा बढ़ रही हैं इस सुरक्षा बल की जिम्मेदारियां

नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) की सराहना करते हुए कहा कि उसकी जिम्मेदारी लगातार बढ़ रही है। सीआईएसएफ को साइबर क्राइम रोकने के लिए मजबूत पकड़ बनानी होगी। सुरक्षा बल देश की आंतरिक सुरक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रहे हैं। यह बात केंद्रीय गृह मंत्री ने महिपालपुर में नव निर्मित सीआईएसएफ परिसर के उदघाटन एवं साकेत आवासीय परिसर के शिलान्यास के अवसर कही। इस कार्यक्रम में वह बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे थे।




इस अवसर पर सीआईएसएफ के डीजी ओपी सिंह, एनबीसीसी के एमडी डॉ एके मित्तल सहित कई वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। गृहमंत्री ने कहा कि साइबर अपराध दिनों दिन बढ़ रहे हैं। अपराधी कब और कितनी क्षति पहुंचा दे कोई पता नहीं है, इसलिए सीआईएसएफ को इस दिशा में भी महारथ हासिल करनी होगी। उन्होंने कहाकि सीआईएसएफ कंसलटेंसी की भूमिका निभाने लगा है उसे इस ओर आगे बढ़ना चाहिए और सुरक्षा के क्षेत्र में संस्थाओं के लिए कंसलटेंसी की भूमिका निभानी चाहिए। उन्होंने कहाकि सरकार बल की बुनियादी समस्याओं से वाकिफ है, इसलिए उन समस्याओं के समाधान की दिशा में कार्य कर रही है।




इस अवसर पर सीआईएसएफ के डीजी ओपी सिंह ने कहाकि कर्मचारियों के लिए 2400 परिसरों की आवश्यकता है। परिसर को बनाने में 800 करोड़ रपए खर्च होंगे । सरकार विशेष पैकेज दे तो समय से आवासीय परिसर का निर्माण हो सकता है। एनबीसीसी के एमडी डॉ एके मित्तल ने कहाकि 15 एकड़ में फैले इस परिसर को पर्यावरण अनुकूल बनाया गया है। आवास निर्माण के समय एक भी पेड़ को क्षति नहीं पहुंचाई गई है। उन्होंने कहाकि परसिर में एक सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट भी तैयार किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि ने दीप प्रज्जवलन कर किया। सीआईएसएफ के डीजी ओ पी सिंह ने पुष्प गुच्च्छ और अंग वस्त्र देकर मुख्य अतिथि का स्वागत किया।