1. हिन्दी समाचार
  2. नागरिकता संशोधन कानून: गुजरात पुलिस ने आठ हजार लोगों पर दर्ज की FIR, कई राज्यों में आज भी विरोध प्रदर्शन

नागरिकता संशोधन कानून: गुजरात पुलिस ने आठ हजार लोगों पर दर्ज की FIR, कई राज्यों में आज भी विरोध प्रदर्शन

Citizenship Amendment Act Gujarat Police Registers Fir Against Eight Thousand People Protests In Many States Even Today

By बलराम सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर कई राज्यों में आज भी विरोध प्रदर्शन चल रहा है। दिल्ली, यूपी, पश्चिम बंगाल, गुजरात, केरल और कर्नाटक में कई संगठनों ने आज भी विरोध प्रदर्शन करने की चेतावनी दी है। प्रदर्शन के दौरान हिंसा को रोकने क लिए राज्यों में पुलिस बल भी तैयार हैं। असम में आज मोबाइल इंटरनेट सेवा को चालू कर दिया गया है। वहीं गुजरात में 8 हजार लोगों पर हत्या की साजिश और अन्य धाराओं में केस दर्ज किया गया है। पुलिस ने अब तक 49 लोगों को हिरासत में लिया है।

पढ़ें :- विश्व के सबसे बड़े पर्यटन क्षेत्र के रूप में उभर रहा है केवड़िया: PM मोदी

वहीं तमिलनाडु पुलिस ने चेन्नई के वल्लुवर कोट्टम में नागरिकता संशोधन अधिनियम का विरोध कर रहे अभिनेता सिद्धार्थ, संगीतकार टीएम कृष्णा, सांसद थिरुमावलवन और एमएच जवाहिरुल्ला सहित 600 प्रदर्शनकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस ने दर्ज मामले में बिना अनुमति के प्रदर्शन करने को आधार बनाया गया है।

वहीं कर्नाटक के गृहमंत्री बसवराज बोम्मई ने शुक्रवार को कहा कि मंगलूरू में हुई हिंसा में बहुत से लोग पड़ोसी राज्य से आए थे। इसी के चलते बहुत सारी हिंसा हुई है। आज स्थिति शांतिपूर्ण है, यह नियंत्रण में है। वहीं पश्चिम बंगाल में स्थिति शांतिपूर्ण है और संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के विरोध में शुक्रवार को हिंसा की कोई ताजा घटना होने की सूचना नहीं है। शुक्रवार दोपहर में एक खास समुदाय के धार्मिक जमावड़े को देखते हुए राज्य के कई हिस्सों में सतर्कता बढ़ा दी गई है।

उधर केरल के राजस्व मंत्री ई चंद्रशेखरन ने कहा कि मुझे जानकारी मिली है कि केरल के कासरगोड निवासी एक पत्रकार को कर्नाटक के मंगलूरू में हिरासत में लिया गया है। मैंने केरल के मुख्य सचिव से कर्नाटक सरकार से संपर्क करने और इस बारे में जांच करने को कहा है।

इसके अलावा यूनाइटेड मुस्लिम एक्शन कमेटी की बैठक में औवैसी ने कहा कि हमें नागरिकता संशोधन अधिनियम का शांतिपूर्ण तरीके से पुरजोर विरोध करना है लेकिन पुलिस की अनुमति लेने के बाद। उन्होंने कहा कि जैसा कि आप जानते हैं कि लखनऊ, दिल्ली और मंगलुरु में पुलिस की बर्बरता की और हिंसा हुई थी जिसमें दो मुसलमानों की मौत हो गई। अगर हिंसा होती है तो हम इसकी निंदा करेंगे और इससे खुद को अलग कर लेंगे।

पढ़ें :- सीएम योगी ने झांसी में स्ट्रॉबेरी महोत्सव का किया वर्चुअल शुभारम्भ, कहा-बुन्देलखण्ड में मिलेगी ...

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...