CAA पर बवाल: लालू ने CM नीतीश पर साधा निशाना,कहा- इतिहास आपको विश्वासघात के लिए याद रखेगा

लालू और नीतीश
CAA पर बवाल: लालू ने CM नीतीश पर साधा निशाना,कहा- इतिहास आपको विश्वासघात के लिए याद रखेगा

पटना। नागरिकता संशोधन कानून को जनता दल यूनाइटेड द्वारा समर्थन देने पर राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष लालू प्रसाद ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा ​है। सीएए और एनआरसी को लेकर गुरुवार को वामदलों ने बिहार बंद का आवाहृन किया था। बंद में राजद को छोड़कर महागठबंधन के सभी दल साथ थे।

Citizenship Amendment Act Lalu Targeted Cm Nitish Said You Will Remember History For Betrayal :

बंद को लेकर राजद सुप्रीमो लालू यादव के ट्विटर हैंडल से सीएम नीतीश का नाम लिए बिना ट्वीट में कहा गया, देश जल रहा है। नागरिक संवैधानिक संकट के विरोध में सड़कों पर हैं। राजनीतिक दलों से लेकर सिविल सोसाइटी तक सभी इसे लेकर बात कर रहे हैं। आप बता सकते हैं कि केवल एक टर्नकोट नेता है, जो इस मामले पर चुप्पी साधे है? इतिहास उन्हें विश्वासघात, नीचता, अवसरवाद, कायरता और अमरता के लिए याद करेगा।

इस ट्वीट से पहले भी सीएम नीतीश पर कटाक्ष करते हुए लालू यादव के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया “बातें कोरी-कोरी और धोखा घड़ी-घड़ी, सरीसृप का नाम, बूझों तो जानें।” यही नहीं लालू यादव ने एक और ट्वीट में लिखा, “नीतीश ने समाजवादी चरित्र तो पहले ही खो दिया था अब उसका नकली धर्मनिरपेक्षता का चोला भी उतर गया है।”

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिक पंजी के खिलाफ राजद लगातार बिहार और केंद्र की एनडीए सरकार पर हमलावर है। राजद की ओर से 21 दिसंबर को इन दोनों मुद्दों को लेकर बिहार बंद का ऐलान किया गया है। वहीं, जदयू ने नागरिकता संशोधन कानून को लेकर लोकसभा औऱ राज्यसभा दोनों सदनों में केंद्र सरकार का साथ दिया है। हालांकि जदयू ने यह साफ किया है कि वो एनआरसी बिहार में लागू नहीं होने देगा।

पटना। नागरिकता संशोधन कानून को जनता दल यूनाइटेड द्वारा समर्थन देने पर राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष लालू प्रसाद ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा ​है। सीएए और एनआरसी को लेकर गुरुवार को वामदलों ने बिहार बंद का आवाहृन किया था। बंद में राजद को छोड़कर महागठबंधन के सभी दल साथ थे। बंद को लेकर राजद सुप्रीमो लालू यादव के ट्विटर हैंडल से सीएम नीतीश का नाम लिए बिना ट्वीट में कहा गया, देश जल रहा है। नागरिक संवैधानिक संकट के विरोध में सड़कों पर हैं। राजनीतिक दलों से लेकर सिविल सोसाइटी तक सभी इसे लेकर बात कर रहे हैं। आप बता सकते हैं कि केवल एक टर्नकोट नेता है, जो इस मामले पर चुप्पी साधे है? इतिहास उन्हें विश्वासघात, नीचता, अवसरवाद, कायरता और अमरता के लिए याद करेगा। इस ट्वीट से पहले भी सीएम नीतीश पर कटाक्ष करते हुए लालू यादव के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया "बातें कोरी-कोरी और धोखा घड़ी-घड़ी, सरीसृप का नाम, बूझों तो जानें।" यही नहीं लालू यादव ने एक और ट्वीट में लिखा, "नीतीश ने समाजवादी चरित्र तो पहले ही खो दिया था अब उसका नकली धर्मनिरपेक्षता का चोला भी उतर गया है।" बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिक पंजी के खिलाफ राजद लगातार बिहार और केंद्र की एनडीए सरकार पर हमलावर है। राजद की ओर से 21 दिसंबर को इन दोनों मुद्दों को लेकर बिहार बंद का ऐलान किया गया है। वहीं, जदयू ने नागरिकता संशोधन कानून को लेकर लोकसभा औऱ राज्यसभा दोनों सदनों में केंद्र सरकार का साथ दिया है। हालांकि जदयू ने यह साफ किया है कि वो एनआरसी बिहार में लागू नहीं होने देगा।