नागरिकता कानून : TMC कार्यकर्ताओं को लखनऊ में आने की इजाजत नहीं, DGP बोले-बढ़ सकता है तनाव

dgp op singh
नागरिकता कानून : TMC कार्यकर्ताओं को लखनऊ में आने की इजाजत नहीं, DGP बोले-बढ़ सकता है तनाव

लखनऊ। नागरिकता कानून को लेकर यूपी के कई जिलों में प्रदर्शन जारी है। कई जिलों में इसको लेकर हिंसा भी हुई है, जिसके कारण तनाव की स्थिति बनी हुई है। इस बीच तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता लखनऊ आने वाले थे, जिन्हें यहां आने की अनुमति नहीं दी गयी है। डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि धारा 144 लागू है, ऐसे में तृणमूल कांग्रेस के नेताओं को हम यहां आने की अनुमति नहीं देंगे। पुलिस को आशंका है कि उनके यहां पर राजधानी में तनाव बढ़ सकता है।

Citizenship Law Tmc Workers Not Allowed To Come To Lucknow Dgp Says Tension May Increase :

वहीं, राजधानी में हुई हिंसा में बाहरी लोगों के हाथ होने की आशंका पहले ही डीजीपी ने जताई थी, जिसके कारण यहां पर सुरक्षा के कड़े इंतेजाम हैं। बता दें कि, शनिवार को भी यूपी के रामपुर और कानपुर में हिंसा हुई। इस दौरान रामपुर में एक युवक की जान भी चली गयी, जबकि कई गाड़ियों में तोड़फोड़ और आगजनी की गयी है। प्रदेश के विभिन्न जिलों में गुरुवार से चल रही हिंसा में अब तक 18 लोगों की जान चली गयी है।

डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि हिंसा की वारदात में 879 उपद्रवियों को गिरफ्तार किया गया है। 260 पुलिसकर्मी जख्मी हैं। 135 अपराधिक तत्वों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। वहीं, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि किसी भी दोषी बख्शा नहीं जाएगा। नुकसान की भरपाई के लिए उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई भी शुरू हो गई है।

इस बीच यह जानकारी सामने आई कि टीएमसी के नेता लखनऊ आने वाले हैं। इस पर यूपी पुलिस तुरंत अलर्ट मोड पर आ गई। डीजीपी ओपी सिंह ने कहा, ‘हमें जानकारी मिली है कि टीएमसी के कुछ नेता लखनऊ आना चाहते हैं। हम उन्हें इजाजत नहीं देंगे। यहां धारा 144 लागू है और इनके आने से इलाके में तनाव और बढ़ सकता है।’

लखनऊ। नागरिकता कानून को लेकर यूपी के कई जिलों में प्रदर्शन जारी है। कई जिलों में इसको लेकर हिंसा भी हुई है, जिसके कारण तनाव की स्थिति बनी हुई है। इस बीच तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता लखनऊ आने वाले थे, जिन्हें यहां आने की अनुमति नहीं दी गयी है। डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि धारा 144 लागू है, ऐसे में तृणमूल कांग्रेस के नेताओं को हम यहां आने की अनुमति नहीं देंगे। पुलिस को आशंका है कि उनके यहां पर राजधानी में तनाव बढ़ सकता है। वहीं, राजधानी में हुई हिंसा में बाहरी लोगों के हाथ होने की आशंका पहले ही डीजीपी ने जताई थी, जिसके कारण यहां पर सुरक्षा के कड़े इंतेजाम हैं। बता दें कि, शनिवार को भी यूपी के रामपुर और कानपुर में हिंसा हुई। इस दौरान रामपुर में एक युवक की जान भी चली गयी, जबकि कई गाड़ियों में तोड़फोड़ और आगजनी की गयी है। प्रदेश के विभिन्न जिलों में गुरुवार से चल रही हिंसा में अब तक 18 लोगों की जान चली गयी है। डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि हिंसा की वारदात में 879 उपद्रवियों को गिरफ्तार किया गया है। 260 पुलिसकर्मी जख्मी हैं। 135 अपराधिक तत्वों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। वहीं, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि किसी भी दोषी बख्शा नहीं जाएगा। नुकसान की भरपाई के लिए उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई भी शुरू हो गई है। इस बीच यह जानकारी सामने आई कि टीएमसी के नेता लखनऊ आने वाले हैं। इस पर यूपी पुलिस तुरंत अलर्ट मोड पर आ गई। डीजीपी ओपी सिंह ने कहा, 'हमें जानकारी मिली है कि टीएमसी के कुछ नेता लखनऊ आना चाहते हैं। हम उन्हें इजाजत नहीं देंगे। यहां धारा 144 लागू है और इनके आने से इलाके में तनाव और बढ़ सकता है।'