जस्टिस रंजन गोगोई होंगे सुप्रीम कोर्ट के अगले मुख्य न्यायाधीश

जस्टिस रंजन गोगोई होंगे सुप्रीम कोर्ट के अगले मुख्य न्यायाधीश
जस्टिस रंजन गोगोई होंगे सुप्रीम कोर्ट के अगले मुख्य न्यायाधीश

नई दिली। सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ न्यायाधीश न्यायमूर्ति रंजन गोगोई देश के अगले मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) होंगे। भारत के वर्तमान मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा ने उनके नाम की सिफारिश सरकार को भेजी है। ये परंपरा रही है कि रिटायर होने से पहले सीजेआई अपने उत्तराधिकारी का नाम सरकार को भेजते हैं। सीनियॉरिटी के हिसाब से जस्टिस गोगोई चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के बाद सबसे ऊपर हैं। लिहाजा उनका अगला सीजेआई बनना लगभग तय है। जस्टिस रंजन गोगोई 3 अक्टूबर को अगले चीफ जस्टिस के रूप में शपथ लेंगे।

Cji Dipak Misra Recommends Justice Ranjan Gogoi As Next Chief Justice Of India :

इससे पहले कानून मंत्रालय ने चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया को अधिकारिक तौर पर पत्र लिखकर अपना उत्तराधिकारी तलाशने के लिए कहा था। परंपरा के अनुसार, सुप्रीम कोर्ट के सबसे सीनियर जज को चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया बनाया जाता है। ऐसे में वरिष्ठता के आधार पर जस्टिस गोगोई का नाम सबसे आगे है। जस्टिस रंजन गोगोई को 28 फरवरी 2001 में गुवाहाटी हाई कोर्ट का जज बनाया गया था। इसके बाद 12 फरवरी 2011 को उन्हें पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट का मुख्य न्यायधीश बनाया गया। इसके बाद अप्रैल 2012 में उन्हें सुप्रीम कोर्ट में लाया गया।

लगाए थे गंभीर आरोप

जस्टिस गोगोई 28 फरवरी 2001 को गुवाहाटी हाईकोर्ट के जज नियुक्त किए गए थे। वो पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट में भी जज रहे हैं। उन्हें 12 फरवरी 2011 को पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट का मुख्य न्यायाधीश बनाया गया और वो अप्रैल 2012 में सुप्रीम कोर्ट के जज बने।

इससे पहले कुछ लोग कयास लगा रहे थे कि सुप्रीम कोर्ट के चार जजों की प्रेस कॉन्फ्रैंस के बाद, जिसमें गोगोई भी शामिल थे, किसी अन्य को अगला सीजेआई बनाने का फैसला किया जा सकता है। इस प्रेस कॉन्फ्रैंस में चार जजों- जस्टिस जस्ती चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ ने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। हालांकि अब ये साफ हो गया है कि स्थापित परंपरा के अनुसार ही रंजन गोगोई अगले सीजेआई होंगे।

नई दिली। सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ न्यायाधीश न्यायमूर्ति रंजन गोगोई देश के अगले मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) होंगे। भारत के वर्तमान मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा ने उनके नाम की सिफारिश सरकार को भेजी है। ये परंपरा रही है कि रिटायर होने से पहले सीजेआई अपने उत्तराधिकारी का नाम सरकार को भेजते हैं। सीनियॉरिटी के हिसाब से जस्टिस गोगोई चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के बाद सबसे ऊपर हैं। लिहाजा उनका अगला सीजेआई बनना लगभग तय है। जस्टिस रंजन गोगोई 3 अक्टूबर को अगले चीफ जस्टिस के रूप में शपथ लेंगे।इससे पहले कानून मंत्रालय ने चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया को अधिकारिक तौर पर पत्र लिखकर अपना उत्तराधिकारी तलाशने के लिए कहा था। परंपरा के अनुसार, सुप्रीम कोर्ट के सबसे सीनियर जज को चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया बनाया जाता है। ऐसे में वरिष्ठता के आधार पर जस्टिस गोगोई का नाम सबसे आगे है। जस्टिस रंजन गोगोई को 28 फरवरी 2001 में गुवाहाटी हाई कोर्ट का जज बनाया गया था। इसके बाद 12 फरवरी 2011 को उन्हें पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट का मुख्य न्यायधीश बनाया गया। इसके बाद अप्रैल 2012 में उन्हें सुप्रीम कोर्ट में लाया गया।

लगाए थे गंभीर आरोप

जस्टिस गोगोई 28 फरवरी 2001 को गुवाहाटी हाईकोर्ट के जज नियुक्त किए गए थे। वो पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट में भी जज रहे हैं। उन्हें 12 फरवरी 2011 को पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट का मुख्य न्यायाधीश बनाया गया और वो अप्रैल 2012 में सुप्रीम कोर्ट के जज बने।इससे पहले कुछ लोग कयास लगा रहे थे कि सुप्रीम कोर्ट के चार जजों की प्रेस कॉन्फ्रैंस के बाद, जिसमें गोगोई भी शामिल थे, किसी अन्य को अगला सीजेआई बनाने का फैसला किया जा सकता है। इस प्रेस कॉन्फ्रैंस में चार जजों- जस्टिस जस्ती चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ ने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। हालांकि अब ये साफ हो गया है कि स्थापित परंपरा के अनुसार ही रंजन गोगोई अगले सीजेआई होंगे।