सीएम अखिलेश ने चाचा से सम्बंध सुधारे और बुआ से तोड़ लिया रिश्ता




लखनऊ। यूपी के सीएम अखिलेश यादव और उनके चाचा शिवपाल के बीच खराब हुए रिश्तों के बाद शुरू हुई सियासी उठा पटक पिछले 6 दिनों से सुर्खियों में है। शुक्रवार को नेता जी की मध्यस्थता ने शान्तिबहाली करवाई तो उसके बाद शनिवार को सीएम अखिलेश ने भी औपचारिक रूप से एक प्रेस कांफ्रेन्स बुलाकर इसकी पुष्टिकर दी कि अब सरकार और परिवार दोनों में सब कुछ ठीक है। लेकिन इसी प्रेस कांफ्रेन्स में सीएम अखिलेश ने अपना रिश्ता तोड़ने की घोषणा भी कर दी।

पत्रकारों से बातचीत कर रहे अखिलेश यादव ने शनिवार को कहा है कि वे अब मायावती को बुआ नहीं कहेंगे। दरअसल सीएम अखिलेश अपने पिता मुलायम सिंह यादव की सियासी प्रतिद्वन्दी रहीं बहन ​जी कहलाने वाली बसपा सुप्रीमो मायवती को बुआ जी कहकर उनका जिक्र अपने बयानों में करते आए हैं। जिससे उन्होने अब तौबा कर ली है।




कहा जा रहा है कि जब से मायावती ने अखिलेश को अपना भतीजा कहा है तब से दोनों के विरोधी उन्हें बुआ—भतीजा कहने लगे हैं। खास तौर से बीजेपी के नवनिर्वाचित यूपी अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या ने मायावती और अखिलेश यादव को कई बार बुआ और भतीजे की संज्ञा दी है।

शायद यही वजह रही कि अखिलेश यादव ने समय रहते खुद बनाया रिश्ता खुद ही खत्म कर दिया है।