कर्नाटक और गोवा के बाद मध्यप्रदेश में कांग्रेस सर्तक, बंद कमरे में कमलनाथ और सिंधिया ने की मुलाकात

cm mp
कर्नाटक और गोवा के बाद मध्यप्रदेश में कांग्रेस सर्तक, बंद कमरे में कमलनाथ और सिंधिया ने की मुलाकात

भोपाल। कर्नाटक और गोवा में चल रही सियासत के बीच मध्यप्रदेश में कांग्रेस सर्तक हो गयी है। कमलनाथ और सिंधिया खेमे के बीच चल रहे विवाद को दरकिनार कर दोनों नेताओं ने बंद कमरे में करीब 25 मिनट मुलाकात की। इस मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि, इस मुलाकात के दौरान दोनों नेताओं के बीच कांग्रेस के नए अध्यक्ष को लेकर भी चर्चा हुई।

Cm Kamal Nath Meets Jyotiraditya Scindia In Closed Room :

इसके अलावा कुछ दिन पहले कैबिनेट मीटिंग के दौरान सिंधिया खेमे और कमलनाथ खेमे के मंत्रियों के बीच हुई तकरार पर भी बात हुई। कहा यह भी जा रहा है कि सिंधिया खेमे के मंत्रियों की ब्यूरोकेसी से अच्छे संबंध नही हैं। बता दें कि सीएम कमलनाथ सिंधिया खेमे के स्वस्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट के यहां गुरुवार को डिनर करने पहुंचे थे, जहां इन दोनों नेताओं ने बैठक की थी।

इस डिनर पॉलिटिक्स में मध्यप्रदेश कैबिनेट के 27 मंत्री और 90 विधायक शामिल हुए। वहीं इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह, अयज सिंह और पीसी शर्मा नहीं दिखे। वहीं, सिंधिया ने कांग्रेस ने नेताओं को अनावश्यक बयानबाजी से बचने की नसीहत दी। उन्होंने विधानसभा पहुंचकर कई नेताओं से मुलाकात भी की। उन्होंने कहा कि सीएम, मंत्री और अधिकारी सबको एक साथ मिलकर टीम भावना से काम करना होगा।

भोपाल। कर्नाटक और गोवा में चल रही सियासत के बीच मध्यप्रदेश में कांग्रेस सर्तक हो गयी है। कमलनाथ और सिंधिया खेमे के बीच चल रहे विवाद को दरकिनार कर दोनों नेताओं ने बंद कमरे में करीब 25 मिनट मुलाकात की। इस मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि, इस मुलाकात के दौरान दोनों नेताओं के बीच कांग्रेस के नए अध्यक्ष को लेकर भी चर्चा हुई। इसके अलावा कुछ दिन पहले कैबिनेट मीटिंग के दौरान सिंधिया खेमे और कमलनाथ खेमे के मंत्रियों के बीच हुई तकरार पर भी बात हुई। कहा यह भी जा रहा है कि सिंधिया खेमे के मंत्रियों की ब्यूरोकेसी से अच्छे संबंध नही हैं। बता दें कि सीएम कमलनाथ सिंधिया खेमे के स्वस्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट के यहां गुरुवार को डिनर करने पहुंचे थे, जहां इन दोनों नेताओं ने बैठक की थी। इस डिनर पॉलिटिक्स में मध्यप्रदेश कैबिनेट के 27 मंत्री और 90 विधायक शामिल हुए। वहीं इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह, अयज सिंह और पीसी शर्मा नहीं दिखे। वहीं, सिंधिया ने कांग्रेस ने नेताओं को अनावश्यक बयानबाजी से बचने की नसीहत दी। उन्होंने विधानसभा पहुंचकर कई नेताओं से मुलाकात भी की। उन्होंने कहा कि सीएम, मंत्री और अधिकारी सबको एक साथ मिलकर टीम भावना से काम करना होगा।