न्याय की गुहार लेकर पहुंचे परिजनों को मुख्यमंत्री ने धक्के देकर बाहर निकलवाया

रांची। पिछले दिनों गोल इंस्टीच्यूट के हॉस्टल में इच्छिता सिंह नामक छात्रा की मौत हो गयी थी और अभी तक इच्छिता के परिजन बेटी के न्याय के लिए दर-दर भटकने को मजबूर है। इसी क्रम में छात्रा के परिजन उच्चस्तरीय जांच की मांग लेकर मुख्यमंत्री रघुवर दास से मिलने पहुंचे। इस दौरान छात्रा के परिजनों को गेट आउट कर के सीएम के कार्यक्रम से भगाया गया।



ये पूरा वाकया हरमू में आयोजित अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का है। बताते चले कि बीजेपी महिला मोर्चा के इस कार्यक्रम में सीएम रघुवर दास शिरकत करने पहुंचे थे। उस कार्यक्रम में 2 मार्च को इंस्टीट्यूट के हॉस्टल में सुसाइड करने वाली इच्छिता सिंह के पिता संजय सिंह अपने परिवार के सदस्यों के साथ मौजूद थे। बेटी की मौत से दुखी परिजन न्याय की आस में सीएम से मिलने पहुंचे थे। कार्यक्रम के दौरान पिता संजय सिंह ने मंच पर पहुंचकर मुख्यमंत्री को ज्ञापन देने की कोशिश की तो मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें हटा दिया। इससे थोड़ी देर तक कार्यक्रम स्थल पर अफरातफरी की स्थिति रही। व्यवधान से मुख्यमंत्री रघुवर दास भी असहज दिखे। और अंत में न्याय की उम्मीद लेकर पहुंचे परिजनों को धक्के मार कर बाहर कर दिया गया।



उधर सुरक्षाकर्मियों द्वारा कार्यक्रम स्थल से निकाले जाने पर भड़के इच्छिता के परिजनों ने व्यवस्था पर सवाल उठाए। पुलिस प्रशासन के समझाने के बावजूद उनका गुस्सा शांत नहीं हुआ। मीडिया से बातचीत में पिता संजय सिंह के साथ-साथ मृतका की मां और बहनों ने कहा कि इच्छिता की हत्या हुई है और हत्यारे खुलेआम घूम रहे हैं। उन्होंने पूरे प्रकरण की सीबीआई से जांच कराने की मांग की। करीब आधे घंटे बाद अधिकारियों के समझाने पर वे वापस लौटे।