SC के आदेश दरकिनार कर सीएम शिवराज ने तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों को वापस दिए सरकारी बंगले

shivraj-singh-chauhan
SC के आदेश दरकिनार कर सीएम शिवराज ने तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों को वापस दिए सरकारी बंगले

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश को दरकिनार कर विशेषाधिकार का प्रयोग करते हुए तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों को सरकारी बंगले में रहने की मंजूरी दे दी है। इन पूर्व मुख्यमंत्रियों में उमा भारती, बाबूलाल गौर तथा कैलाश चंद्र जोशी का नाम शामिल है। बता दें कि मध्य प्रदेश हाई कोर्ट की तरफ से राज्य के चार पूर्व मुख्यमंत्रियों को 30 दिन के अंदर सरकारी बंगले खाली करने का आदेश दिया गया था।

19 जुलाई को मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने एक जनहित याचिका पर फैसला सुनाते हुए प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्रियों को निशुल्क आजीवन सरकारी आवास की सुविधा के प्रावधान को अवैधानिक करार देते हुए एक महीने में कार्रवाई करने के आदेश दिए थे। कोर्ट के इस फैसले के मद्देनजर प्रदेश सरकार ने चार पूर्व मुख्यमंत्रियों जिनमें कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह भी शामिल हैं, के बंगलों का आवंटन निरस्त कर दिया था।

{ यह भी पढ़ें:- आरूषि- हेमराज मर्डर केस : सीबीआई की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट दोबारा करेगी मामले की सुनवाई }

जनआशीर्वाद यात्रा से वापस लौटे शिवराज ने उमा भारती, बाबूलाल गौर तथा कैलाश चंद्र जोशी को बंगलों में ही रहने की अनुमति जारी की। मुख्यमंत्री को आवास आवंटन के मामे में विशेषाधिकार हासिल है। इन सभी पूर्व सीएम के अलावा सीनियर कांग्रेसी नेता तथा मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को भी बंगला खाली करना पड़ा था, लेकिन शिवराज ने उनके बारे में कोई निर्णय नहीं लिया है।

यूपी में खाली हुए बंगले-

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह, मायावती, अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव को बंगले खाली करने पड़े थे। अखिलेश के बंगले को लेकर काफी विवाद भी हुआ था। हालांकि, बाद में चारों पूर्व सीएम ने अपने-अपने बंगले खाली कर दिए थे, लेकिन इसी साल चुनाव का सामना करने वाले मध्य प्रदेश में सीएम शिवराज ने विशेषाधिकारों का इस्तेमाल करते हुए अपनी पार्टी से जुड़े से तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों के बंगले बचा लिए हैं।

{ यह भी पढ़ें:- इतिहास में पहली बार सुप्रीम कोर्ट में एक साथ होंगी तीन महिला न्यायाधीश }

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश को दरकिनार कर विशेषाधिकार का प्रयोग करते हुए तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों को सरकारी बंगले में रहने की मंजूरी दे दी है। इन पूर्व मुख्यमंत्रियों में उमा भारती, बाबूलाल गौर तथा कैलाश चंद्र जोशी का नाम शामिल है। बता दें कि मध्य प्रदेश हाई कोर्ट की तरफ से राज्य के चार पूर्व मुख्यमंत्रियों को 30 दिन के अंदर सरकारी बंगले खाली करने का आदेश दिया गया था।…
Loading...