सीएम योगी की इच्छा शक्ति से बदल रही है सरकारी कार्य संस्कृति: भाजपा

लखनऊ। इन दिनों यूपी के नए सीएम योगी आदित्यनाथ अपने काम करने के तरीकों को लेकर सुर्खियों में हैं। चाहें सरकारी विभागों का औचक निरीक्षण हो या फिर जनता दरबार लगाकर फरियादियों की समस्याओं को हल करना उनकी हर पहल की सराहना हो रही है। जिस तरह का कठोर संदेश सीएम योगी ने सरकारी कर्मचारियों को दिया है उसके असर का दिखना शुरू हो गया है। सीएम योगी की कार्यशैली को मिल रही आम लोगों की सराहना से गदगद यूपी भाजपा ने सूबे में बदलती सरकारी कार्य संस्कृति को योगी की दृढ़ ईच्छा शक्ति का परिणाम करार दिया है।




उत्तर प्रदेश भाजपा की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के साथ ही कार्यसंस्कृति में भी बदलाव दिखना शुरू हो गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कार्यशैली व दृढ़ इच्छा शक्ति के कारण जनता सुखद बदलाव महसूस करने लगी है। दफ्तरों में अधिकारी-कर्मचारी समय पर पहुॅचने लगे है। देर से कार्यालय पहुॅचने वाले कर्मियों को अनुपस्थित कर अनुशासनात्मक कार्यवाही की जा रही है। भ्रष्टाचार की शिकायतों में भी कमी आई है। भ्रष्ट अधिकारियों पर शिंकजा कसा जा रहा है। केन्द्रीय जांच एजेन्सियों को राज्य सरकार पूरा सहयोग दे रही है, आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय की बढती गतिविधियों से भ्रष्टाचारियों में हडकंप है।




प्रदेश भाजपा का कहना है कि भाजपा सरकार भ्रष्टाचार के मसले पर ‘जीरो टालरेन्स‘ के लिए संकल्पित है। भ्रष्ट कर्मियों को निलम्बित किये जाने का क्रम निरन्तर जारी है। पिछली सरकारों में किए गए भ्रष्टाचार की वर्तमान सरकार गहनता से जांच भी करवा रही है। दोषियों को दण्डित भी करेगी। ईमानदार अधिकारियों को महत्वपूर्ण तैनातियां देकर पारदर्शी एवं जबाबदेह प्रशासन सुनिश्चित हो रहा है।




पार्टी का कहना है कि पूर्ववर्ती सरकारें विकास के कार्यो में धन की कमी का रोना रोती रही और सरकारी धन का अपव्यय करती रही। जबकि योगी सरकार में फिजूलखर्ची पर लगाम लगाई जा रही है। लोकोपयोगी योजनाओं में धन की कमी आड़े नहीं आने दी जायेगी।