सोनभद्र हत्याकांड : सीएम ने की बड़ी कार्रवाई, डीएम और एसपी को हटाया

cm yogi
सोनभद्र हत्याकांड : सीएम ने कांग्रेस को ठहराया जिम्मेदार, डीएम और एसपी को हटाया

लखनऊ। सोनभद्र हत्याकांड में सीएम योगी आदित्यनाथ ने बड़ी कार्रवाई की है। जांच रिपोर्ट आने के बाद सीएम ने वहां के एसपी सलमान ताज पाटिल और डीएम अंकित अग्रवाल को हटा दिया है। इसके साथ ही उनके खिलाफ वि​भागीय जांच के आदेश दिये हैं। सीएम ने कहा कि, 1952 के बाद से अब तक जो भी दोषी अधिकारी हैं, उन सबके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी। इसके अलावा फर्जीवाड़े में शामिल पूर्व अधिकारी भी अगर जीवित हैं तो उनके खिलाफ भी केस दर्ज किया जाएगा।

Cm Yogi Adityanath Removed Sonbhadra Dm And Sp :

सीएम ने कहा कि, इस घटना में डीएम—एसपी के अलावा अब तक एक एएसपी, तीन सीओ, राजस्व विभाग के कुछ अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की गई है। अभी तक कुल सात राजपत्रित अधिकारी और आठ गैर-राजपत्रित अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। वहीं जांच कमेटी की रिपोर्ट में जिलाधिकारी और एसपी की लापरवाही सामने आई, जिसके बाद सीएम ने वहां के जिलाधिकारी अंकित अग्रवाल को हटा दिया है।

उनकी जगह एस रामलिंगम को तैनात किया है। इसके साथ ही एसपी को हटाकर प्रभाकर चौधरी को वहां पर नियुक्त किया है। सीएम ने कहा कि, 1952 से लेकर अब तक ऐसे जितने भी फर्जीवाड़े किये गये हैं, उसका खुलासा किया जायेगा। इसके साथ ही दोषी अफसरों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

सीएम ने कहा कि, 1952 से लेकर लंबे समय तक कांग्रेस के समय समिति बनाकर ग्रामसभा की जमीन पर कब्जे का खेल खेला गया, जिसमें कई बड़े अधिकारी और नेता शामिल रहे। मिर्जापुर और सोनभद्र में फर्जी सोसायटी बनाकर 1 लाख हेक्टेयर जमीन पर कब्जा किया गया। इस मामले में मैंने एक समिति बनाई है, जो ऐसे सभी मामलों की जांच करेगी और जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज होगा।

लखनऊ। सोनभद्र हत्याकांड में सीएम योगी आदित्यनाथ ने बड़ी कार्रवाई की है। जांच रिपोर्ट आने के बाद सीएम ने वहां के एसपी सलमान ताज पाटिल और डीएम अंकित अग्रवाल को हटा दिया है। इसके साथ ही उनके खिलाफ वि​भागीय जांच के आदेश दिये हैं। सीएम ने कहा कि, 1952 के बाद से अब तक जो भी दोषी अधिकारी हैं, उन सबके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी। इसके अलावा फर्जीवाड़े में शामिल पूर्व अधिकारी भी अगर जीवित हैं तो उनके खिलाफ भी केस दर्ज किया जाएगा। सीएम ने कहा कि, इस घटना में डीएम—एसपी के अलावा अब तक एक एएसपी, तीन सीओ, राजस्व विभाग के कुछ अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की गई है। अभी तक कुल सात राजपत्रित अधिकारी और आठ गैर-राजपत्रित अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। वहीं जांच कमेटी की रिपोर्ट में जिलाधिकारी और एसपी की लापरवाही सामने आई, जिसके बाद सीएम ने वहां के जिलाधिकारी अंकित अग्रवाल को हटा दिया है। उनकी जगह एस रामलिंगम को तैनात किया है। इसके साथ ही एसपी को हटाकर प्रभाकर चौधरी को वहां पर नियुक्त किया है। सीएम ने कहा कि, 1952 से लेकर अब तक ऐसे जितने भी फर्जीवाड़े किये गये हैं, उसका खुलासा किया जायेगा। इसके साथ ही दोषी अफसरों के खिलाफ कार्रवाई होगी। सीएम ने कहा कि, 1952 से लेकर लंबे समय तक कांग्रेस के समय समिति बनाकर ग्रामसभा की जमीन पर कब्जे का खेल खेला गया, जिसमें कई बड़े अधिकारी और नेता शामिल रहे। मिर्जापुर और सोनभद्र में फर्जी सोसायटी बनाकर 1 लाख हेक्टेयर जमीन पर कब्जा किया गया। इस मामले में मैंने एक समिति बनाई है, जो ऐसे सभी मामलों की जांच करेगी और जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज होगा।