कानून व्यवस्था को लेकर बैठक कर रहे हैं सीएम योगी आदित्यनाथ, मीटिंग से पहले जमा हुए अफसरों के फोन

yogi
कानून व्यवस्था को लेकर बैठक कर रहे हैं सीएम योगी आदित्यनाथ, मीटिंग से पहले जमा हुए अफसरों के फोन

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ इस समय सख्त तेवर में हैं। कानून व्यवस्था को लेकर वह कई बार मातहतों को निर्देशित कर चुके हैं। वहीं आज कानून—व्यवस्था की समीक्षा करने के लिए अलग-अलग जिलों के जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक व पुलिस अधीक्षकों के साथ बैठक कर रहे हैं। इस बैठक में जाते समय अफसरों के फोन जमा करवा लिए गये हैं।

Cm Yogi Adityanath Who Is Meeting On Law And Order :

अफसरा बैठक में बिना फोन के ही गए हैं। आपको बता दें कि पिछले दिनों फरमान जारी किया गया था कि मंत्रीगण व अफसर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में होने वाली बैठकों में फोन नहीं ले जा सकेंगे। उन्हें बैठक कक्ष के बाहर ही अपना फोन छोड़ना होगा। मुख्य सचिव अनूप चंद्र पाण्डेय ने इसको लेकर आदेश जारी किया था। इस आदेश में कहा गया था कि लोकभवन स्थित मंत्रिपरिषद कक्ष में किसी का भी मोबाइल फोन लाना प्रतिबंधित है।

यह पत्र उप मुख्यमंत्री, सभी कैबिनेट मंत्री, स्वतंत्र प्रभार के सभी राज्यमंत्रियों व राज्यमंत्रियों के निजी सचिवों को दिया गया था। इस आदेश का असर तब दिखा जब बुधवार को कानून व्यवस्था को लेकर हुई बैठक में अफसरों के फोन बाहर रखवा लिए गए। उन्हें किसी तरह की असुविधा न हो इसके लिए मोबाइल जमा करने पर टोकन दिया गया जिसे वापस करने पर मोबाइल फिर से लिया जा सकेगा।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ इस समय सख्त तेवर में हैं। कानून व्यवस्था को लेकर वह कई बार मातहतों को निर्देशित कर चुके हैं। वहीं आज कानून—व्यवस्था की समीक्षा करने के लिए अलग-अलग जिलों के जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक व पुलिस अधीक्षकों के साथ बैठक कर रहे हैं। इस बैठक में जाते समय अफसरों के फोन जमा करवा लिए गये हैं। अफसरा बैठक में बिना फोन के ही गए हैं। आपको बता दें कि पिछले दिनों फरमान जारी किया गया था कि मंत्रीगण व अफसर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में होने वाली बैठकों में फोन नहीं ले जा सकेंगे। उन्हें बैठक कक्ष के बाहर ही अपना फोन छोड़ना होगा। मुख्य सचिव अनूप चंद्र पाण्डेय ने इसको लेकर आदेश जारी किया था। इस आदेश में कहा गया था कि लोकभवन स्थित मंत्रिपरिषद कक्ष में किसी का भी मोबाइल फोन लाना प्रतिबंधित है। यह पत्र उप मुख्यमंत्री, सभी कैबिनेट मंत्री, स्वतंत्र प्रभार के सभी राज्यमंत्रियों व राज्यमंत्रियों के निजी सचिवों को दिया गया था। इस आदेश का असर तब दिखा जब बुधवार को कानून व्यवस्था को लेकर हुई बैठक में अफसरों के फोन बाहर रखवा लिए गए। उन्हें किसी तरह की असुविधा न हो इसके लिए मोबाइल जमा करने पर टोकन दिया गया जिसे वापस करने पर मोबाइल फिर से लिया जा सकेगा।