अयोध्या: सीएम योगी ने किया समरसता कुंभ का उद्घाटन, राहुल को बताया ‘एक्सीडेंटल हिंदू’

cm yogi ayodhya
अयोध्या: सीएम योगी ने किया समरसता कुंभ का उद्घाटन, राहुल को बताया 'एक्सीडेंटल हिंदू'

अयोध्या। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को अयोध्या में समरसता कुंभ का उद्घाटन किया। इस दौरान बोलते हुए उन्होने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर जमकर हमला बोला। उन्होने राहुल गांधी को एक्सीडेंटल हिंदू बोला। आगे उन्होने कहा कि उन्होंने कहा कि अयोध्या को हमारे प्रधानमंत्री की मेहनत से यूनेस्को ने वैश्विक धरोहर का दर्जा दिया।

Cm Yogi Aditynath Innaugration Samrasta Kumbh In Ayodhya :

योगी ने कहा कि अपने को एक्सीडेंटल हिंदू बताने वालों को भी जनेऊ और गोत्र याद आ गया। उन्होने इसे अपनी वैचारिक जीत करार दिया है। उन्होंने कहा कि कुंभ भारतीय संस्कृति में मानवता का सबसे बड़ा मिलन स्थल है। यह तो मानवता का सबसे बड़ा पर्व भी है। हम बेहद गौरवशाली हैं कि यह उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में होता है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हिंदुओं से बड़ा प्रकृति पूजक कोई नहीं फिर भी उन्हें पर्यावरण विरोधी साबित करने का षडयंत्र किया जा रहा है। वेद की रचना करने वाले ऋषि उस वर्ग से थे जिन्हें आज हम दलित कहते हैं। योगी ने कहा कि अयोध्या कोर्ट में कौन लोग गए? जो कभी खुद मंदिर नहीं गए होंगे।

अयोध्या। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को अयोध्या में समरसता कुंभ का उद्घाटन किया। इस दौरान बोलते हुए उन्होने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर जमकर हमला बोला। उन्होने राहुल गांधी को एक्सीडेंटल हिंदू बोला। आगे उन्होने कहा कि उन्होंने कहा कि अयोध्या को हमारे प्रधानमंत्री की मेहनत से यूनेस्को ने वैश्विक धरोहर का दर्जा दिया। योगी ने कहा कि अपने को एक्सीडेंटल हिंदू बताने वालों को भी जनेऊ और गोत्र याद आ गया। उन्होने इसे अपनी वैचारिक जीत करार दिया है। उन्होंने कहा कि कुंभ भारतीय संस्कृति में मानवता का सबसे बड़ा मिलन स्थल है। यह तो मानवता का सबसे बड़ा पर्व भी है। हम बेहद गौरवशाली हैं कि यह उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में होता है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हिंदुओं से बड़ा प्रकृति पूजक कोई नहीं फिर भी उन्हें पर्यावरण विरोधी साबित करने का षडयंत्र किया जा रहा है। वेद की रचना करने वाले ऋषि उस वर्ग से थे जिन्हें आज हम दलित कहते हैं। योगी ने कहा कि अयोध्या कोर्ट में कौन लोग गए? जो कभी खुद मंदिर नहीं गए होंगे।