1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. अयोध्या: जब सीएम योगी ने मरीजों से वार्ता के दौरान पूछा-क्या हो गया आपको….

अयोध्या: जब सीएम योगी ने मरीजों से वार्ता के दौरान पूछा-क्या हो गया आपको….

रामनगरी अयोध्या (Ayodhya) में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कहा कि अयोध्या (Ayodhya) आने वाले समय में वैश्विक टूरिज्म हब के साथ एजुकेशन व स्वास्थ्य सुविधाओं का केन्द्र बने। इसके लिए केन्द्र व प्रदेश सरकार कटिबद्ध है। मुख्यमंत्री (CM Yogi Adityanath) द्वारा आज राजर्षि दशरथ स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय परिसर के प्रशासनिक एवं ओपीडी भवन के निरीक्षण के समय यह बात कही गयी।

By शिव मौर्या 
Updated Date

अयोध्या। cm yogi ayodhya visit रामनगरी अयोध्या (Ayodhya) में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कहा कि अयोध्या (Ayodhya) आने वाले समय में वैश्विक टूरिज्म हब के साथ एजुकेशन व स्वास्थ्य सुविधाओं का केन्द्र बने। इसके लिए केन्द्र व प्रदेश सरकार कटिबद्ध है। मुख्यमंत्री (CM Yogi Adityanath) द्वारा आज राजर्षि दशरथ स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय परिसर के प्रशासनिक एवं ओपीडी भवन के निरीक्षण के समय यह बात कही गयी। देश में सबसे ज्यादा मेडिकल कालेज यूपी के पास में है। इस आधार पर हम हेल्थ सेक्टर में नम्बर वन है। 1947 में आजादी के बाद अब तक 69 वर्षों में 12 मेडिकल कालेज यूपी में थे। वर्तमान सरकार के चार से साढ़े चार साल की कार्यकाल के दौरान 32 नये मेडिकल कालेज बनने की प्रक्रिया में है।

पढ़ें :- Mahant Narendra Giri Death: अंतिम दर्शन करने पहुंचे सीएम योगी, कहा-दोषियों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई
Jai Ho India App Panchang

उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत 2019 में अयोध्या मेडिकल कालेज (Ayodhya Medical College) में 100 छात्रों के साथ यहां प्रवेश हुआ था। प्रदेश सरकार ने 2019-20 में 8 नये मेडिकल कालेज को एमसीआई से एप्रुवल के बाद प्रारम्भ किया था। जिसमें अयोध्या भी था। मार्च 2020 में जब कोरोना आया तो यह मेडिकल कालेज डेडिकेटेड कोविड हास्पिटल के रुप में प्रयोग किया गया। इस नये मेडिकल कालेज में 3 हजार आरटीपीसीआर टेस्ट करने की क्षमता है। मार्च 2020 में जब कोरोना की आहट हुई थी तो यूपी के पास एक भी टेस्ट करने के लिए लैब नहीं थी।

आज हमारे पास तीन लाख से अधिक टेस्ट करने की क्षमता है। जब यूपी में पहला कोविड का मरीज आया तो उसका सैम्पल टेस्ट करने के लिए बाहर भेजना पड़ा था। पेशेन्ट को उपचार के लिए भी बाहर भेजना पड़ा था। तीसरे बेब की तैयारी पूरी हो चुकी है। आज मेडिकल कालेज का निरीक्षण किया। 8 नये मेडिकल कालेज बनने के साथ 9 नये मेडिकल कालेज एनएचसी के पास एप्रुवल की प्रक्रिया में है।

अयोध्या मेडिकल कालेज (Ayodhya Medical College) दो बैच में 100 छात्र है। नये बैच में 100 छात्रों की तैयारी की जा रही है। जिसकी अक्टूबर में काउसलिंग होगी। इस सत्र में 14 नये मेडिकल कालेज भारत सरकार के सहयोग से बनाये जा रहे है। 16 जिले ऐसे है जहां एक भी मेडिकल कालेज नहीं है। उनके लिए हम पालिसी लेकर आ रहे है। दिसम्बर तक इसके लिए अपनी स्वीकृति प्रदान कर देगें। यहां मेडिकल कालेज का निरीक्षण किया। आने वाले समय में बेहतर सुविधाएं उपलब्ध हो सके इसका पूरा प्रयास किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री इसके पूर्व मेडिकल कालेज का निरीक्षण किया गया तथा मौलश्री एवं फलदार/छायादार वृक्ष भी लगाये गये। मुख्यमंत्री के द्वारा विभिन्न वार्डो में जाकर मरीजों से वार्ता भी की गयी तथा ब्लड बैंक को भी देखा गया। मरीजों से वार्ता के समय मुख्यमंत्री ने पूछा कि आपको कौन सी बीमारी है। व्यक्ति/बच्चों ने बताया कि उनको बुखार है। वहां पर उपस्थित चिकित्सकों ने कहा इनको वायरल फीबर है तो मुख्यमंत्री ने उनको गरम पानी पीने और साफ सफाई पर विशेष ध्यान रखें।

पढ़ें :- पहले के मुख्यमंत्रियों में स्वयं के घर बनाने की लगी रहती थी होड़, हमने 42 लाख गरीबों को दिए आवास : सीएम योगी

मुख्यमंत्री द्वारा निरीक्षण के बाद मीडिया से वार्ता की गयी तथा कहा गया कि हमारा उद्देश्य है कि अयोध्या एक विश्व स्तरीय पर्यटन केन्द्र के साथ साथ एजुकेशनल एवं मेडिकल फैसिलिटी का भी बड़ा केन्द्र हो। इसके लिए स्थानीय प्रशासन द्वारा सभी क्षेत्रों में बेहतर कार्य किया गया जिसकी मैं सराहना करता हूं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि, अगले चरण में पर्यटन विभाग के यात्री निवास नयाघाट पर अयोध्या के संत महात्माओं से मुलाकात की गयी तथा संतों के साथ भोजन प्रसाद भी ग्रहण किया गया तथा मुख्यमंत्री द्वारा सभी संतों को अंग वस्त्रम् प्रसाद आदि देकर सम्मानित किया गया। इसमें अयोध्या के लगभग सभी संत महंत उपस्थित थे।

अगले चरण में मुख्यमंत्री ने हनुमानगढ़ी का दर्शन पूजन किया तथा रामलला मंदिर परिसर का निरीक्षण किया एवं पूजन किया तथा चल रहे कार्यो की जानकारी ली एवं संक्षिप्त रूप से सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की। अगले चरण में मणिराम दास छावनी के महंत तथा रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के अध्यक्ष महंत श्री नृत्यगोपाल दास से भी मुलाकात की एवं प्रसिद्व सुग्रीव किला पीठाधीश्वर जगतगुरू विश्वप्रपन्नाचार्य से भी जाकर उनसे मुलाकात की एवं उनका कुशलक्षेम पूछा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...