1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. सीएम योगी ने की बाढ़ नियंत्रण एवं बचाव को लेकर बैठक, कहा-सभी तटबंधों की सतत निगरानी की जाए

सीएम योगी ने की बाढ़ नियंत्रण एवं बचाव को लेकर बैठक, कहा-सभी तटबंधों की सतत निगरानी की जाए

बारसात का मौसम शुरू होते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  (Chief Minister Yogi Adityanath) ने बाढ़ नियंत्रण एवं बचाव को लेकर आज बैठक की। इस दौरान मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को कई दिशा निर्देश जारी किए। मुख्यमंत्री ने कहा कि, हमें बाढ़ के साथ-साथ जलभराव से बचाव के लिए भी ठोस प्रयास करना होगा। जिलाधिकारीगण स्वयं रुचि लेकर जलभराव से बचाव के लिए व्यवस्था की देखरेख करें। कल 30 जून तक नालों आदि की सफाई का कार्य पूर्ण करा लिया जाए।

By शिव मौर्या 
Updated Date

लखनऊ। बारसात का मौसम शुरू होते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  (Chief Minister Yogi Adityanath) ने बाढ़ नियंत्रण एवं बचाव को लेकर आज बैठक की। इस दौरान मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को कई दिशा निर्देश जारी किए। मुख्यमंत्री ने कहा कि, हमें बाढ़ के साथ-साथ जलभराव से बचाव के लिए भी ठोस प्रयास करना होगा। जिलाधिकारीगण स्वयं रुचि लेकर जलभराव से बचाव के लिए व्यवस्था की देखरेख करें। कल 30 जून तक नालों आदि की सफाई का कार्य पूर्ण करा लिया जाए।

पढ़ें :- Azadi ka amrit mahotsav: सीएम योगी ने की हर घर तिरंगा अभियान की शुरुआत, अमृत महोत्सव में भागीदार बनने की अपील की

उन्होंने कहा कि, बाढ़ की आशंका को देखते हुए सभी तटबंधों की सतत निगरानी की जाए। राज्य स्तर और जिला स्तर पर बाढ़ राहत कंट्रोल रूप 24X7 एक्टिव मोड में रहें। उत्तर प्रदेश पुलिस रेडियो मुख्यालय द्वारा बाढ़ से प्रभावित जनपदों में 113 बेतार केंद्र अधिष्ठापित किए गए हैं। मॉनसून अवधि में यह केंद्र हर समय एक्टिव रहें। प्रदेश में बाढ़ से सुरक्षा के लिए विभिन्न नदियों पर 3,869 किमी लंबाई वाले 523 तटबंध निर्मित हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि, समस्त अतिसंवेदनशील तटबंधों पर प्रभारी अधिकारी, सहायक अभियन्ता स्तर के नामित किए जा चुके हैं, यह 24X7 अलर्ट मोड में रहें। तटबन्धों पर क्षेत्रीय अधिकारियों/कर्मचारियों द्वारा लगातार निरीक्षण एवं सतत् निगरानी की जाए। उन्होंने कहा कि, लोगों को बताया जाए कि बाढ़ का पानी कतई न पिएं, जब भी पानी पियें उबाल कर छान कर पिएं। राहत शिविरों में चिकित्सकों की टीम विजिट करे।

हमें कोरोना के प्रति भी सतर्क रहना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि, इन स्थलों पर पशु चारे की पर्याप्त व्यवस्था होनी चाहिए। पशुपालन विभाग द्वारा पशुओं का टीकाकरण समय से कराया जाना सुनिश्चित किया जाए। कंट्रोल रूम क्रियाशील रहे। साथ ही कहा कि, बाढ़ के दौरान जिन गांवों में जलभराव की स्थिति बनेगी, वहां आवश्यकतानुसार पशुओं को अन्यत्र सुरक्षित स्थल पर शिफ्ट कराया जाए। इसके लिए जनपदों की स्थिति को देखते हुए स्थान का चयन कर लिया जाए।

पढ़ें :- Free Bus Service On Rakshabandhan 2022 : यूपी परिवहन निगम की बसों में महिलाओं को 11 व 12 अगस्त को निःशुल्क सेवा
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...