सरकारी दफ्तर में बार-बार चक्कर लगाने के बाद भी नहीं हो रहा काम तो डायल करें ये नंबर

सरकारी दफ्तर में बार-बार चक्कर लगाने के बाद भी नहीं हो रहा काम तो डायल करें ये नंबर
सरकारी दफ्तर में बार-बार चक्कर लगाने के बाद भी नहीं हो रहा काम तो डायल करें ये नंबर

लखनऊ। अगर आप भी सरकारी दफ्तरों के बार-बार चक्कर लगाकर थक चुके हैं और उसके बाद आपकी सुनवाई नहीं हो रही है तो अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। दरअसल उत्तर प्रदेश सरकार ने इसपर ध्यान देते हुए एक टॉल फ्री नंबर-1076 जारी किया है जो इस तरह ही समस्याओं से निपटने में आपकी मदद करेगा। इस नंबर पर कॉल करते ही समस्या का न केवल समयबद्ध निस्तारण किया जाएगा, बल्कि पूछा भी जाएगा कि आप निस्तारण से संतुष्ट हैं या नहीं।

Cm Yogi Launches Helpline For All Government Related Services :

बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को जनता के लिए सीएम हेल्पलाइन नंबर की शुरुआत की। सीएम ने कहा कि हेल्पलाइन पर आने वाले शिकायतों के समयबद्ध निस्तारण को अधिकारियों की ऐनुअल कैरेक्टर रिपोर्ट (एसीआर) से भी जोड़ा जाएगा। बेहतर प्रदर्शन न करने वाले अधिकारियों की छुट्टी भी की जा सकती है। अगर हम समस्या का समाधान नही कर सकते तो किस लिए बैठे हैं? सीएम ने कहा, ‘हेल्पलाइन की मासिक समीक्षा मैं स्वयं करूंगा।’

इस हेल्पलाइन के जरिए 100, 102 और 108 नंबर से जुड़े मामलों के लिए भी कॉल हो सकेगी। दफ्तर में 500 सीटों की मौजूदा क्षमता है और 24×7 कॉल ली जाएगी। इसमें रोजाना 80 हजार कॉल लेने और 55 हजार कॉल करने की क्षमता है। वहीं इस इस हेल्पलाइन नंबर पर आरटीआई, न्यायिक मामलों, कर्मचारियों के सेवा से जुड़े मामले नहीं लिए जाएंगे।

सीएम ने कहा कि, जब तक शिकायत करने वाल संतुष्ट नहीं हो जाता तब तक फाइल नहीं बंद की जायेगी। इसके साथ ही झूठी शिकायत दर्ज कराने वालों पर भी कार्रवाई की व्यवस्था है। हेल्पलाइन में फोन कॉल सुनने वाले पांच सौ लोगों को रखा गया है। इसे बढ़ाने की तैयारी चल रही है। एक बार में 80 फोन कॉल रिसीव किया जा सकता है। गौरतलब है कि, इससे पहले सीएम ने जनता दरबार और जनसुनवाई पोर्टल भी जांच किया था, जिसके जरिए लोगों को काफी मदद मिली।

लखनऊ। अगर आप भी सरकारी दफ्तरों के बार-बार चक्कर लगाकर थक चुके हैं और उसके बाद आपकी सुनवाई नहीं हो रही है तो अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। दरअसल उत्तर प्रदेश सरकार ने इसपर ध्यान देते हुए एक टॉल फ्री नंबर-1076 जारी किया है जो इस तरह ही समस्याओं से निपटने में आपकी मदद करेगा। इस नंबर पर कॉल करते ही समस्या का न केवल समयबद्ध निस्तारण किया जाएगा, बल्कि पूछा भी जाएगा कि आप निस्तारण से संतुष्ट हैं या नहीं। बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को जनता के लिए सीएम हेल्पलाइन नंबर की शुरुआत की। सीएम ने कहा कि हेल्पलाइन पर आने वाले शिकायतों के समयबद्ध निस्तारण को अधिकारियों की ऐनुअल कैरेक्टर रिपोर्ट (एसीआर) से भी जोड़ा जाएगा। बेहतर प्रदर्शन न करने वाले अधिकारियों की छुट्टी भी की जा सकती है। अगर हम समस्या का समाधान नही कर सकते तो किस लिए बैठे हैं? सीएम ने कहा, 'हेल्पलाइन की मासिक समीक्षा मैं स्वयं करूंगा।' इस हेल्पलाइन के जरिए 100, 102 और 108 नंबर से जुड़े मामलों के लिए भी कॉल हो सकेगी। दफ्तर में 500 सीटों की मौजूदा क्षमता है और 24x7 कॉल ली जाएगी। इसमें रोजाना 80 हजार कॉल लेने और 55 हजार कॉल करने की क्षमता है। वहीं इस इस हेल्पलाइन नंबर पर आरटीआई, न्यायिक मामलों, कर्मचारियों के सेवा से जुड़े मामले नहीं लिए जाएंगे। सीएम ने कहा कि, जब तक शिकायत करने वाल संतुष्ट नहीं हो जाता तब तक फाइल नहीं बंद की जायेगी। इसके साथ ही झूठी शिकायत दर्ज कराने वालों पर भी कार्रवाई की व्यवस्था है। हेल्पलाइन में फोन कॉल सुनने वाले पांच सौ लोगों को रखा गया है। इसे बढ़ाने की तैयारी चल रही है। एक बार में 80 फोन कॉल रिसीव किया जा सकता है। गौरतलब है कि, इससे पहले सीएम ने जनता दरबार और जनसुनवाई पोर्टल भी जांच किया था, जिसके जरिए लोगों को काफी मदद मिली।