सीएम योगी तीन दिवसीय दौरे पर मॉरीशस रवाना

सीएम योगी तीन दिवसीय दौरे पर मॉरीशस रवाना

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुधवार को अपने तीन दिवसीय मॉरीशस दौरे के लिए रवाना हो गए हैं। सीएम योगी मॉरीशस में विदेश मंत्रालय की ओर से आयोजित प्रवासी भारतीय दिवस के आयोजन में शामिल होंगे। इस कार्यक्रम के लिए सीएम योगी के साथ केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह भी मॉरीशस गए हैं। सीएम योगी के साथ प्रमुख सचिव सूचना एवं जनसंपर्क विभाग अवनीश अवस्थी और प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एसपी गोयल भी विदेश दौरे पर गए हैं।

जैसा की आप सभी जानते हैं कि मॉरीशस में बड़ी संख्या में भारतवंशी लोग रहते हैं, जो मूलत: उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल और बिहार से जुड़ाव रखते हैं। ये भारतवंशी पीढ़ियों पहले बतौर मजदूर मॉरीशस ले जाए गए थे और कुछ समय बाद इन्होंने मॉरीशस में ही बसने का फैसला कर लिया।

{ यह भी पढ़ें:- राम मंदिर विवाद सुलझाने अयोध्या पहुंचे श्रीश्री रविशंकर, योगी ने कहा- आसान नहीं }

बताया जा रहा है ​कि भारत सरकार मॉरीशस में बसे भारत​वंशियों को दोबारा भारत से जोड़ने के लिहाज से इस पहल कर रहा है। भारत और मॉरीशस के बीच बड़ा और पुराना कारोबारी संबन्ध है। सीएम योगी और केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह मॉरीशस सरकार के कार्यक्रम में भागीदारी कर वहां बसे एनआरआई लोगों को भारत में होने वाले एनआरआई सम्मेलन में आने का न्यौता देंगे।

मॉरीशस से विदेशी निवेश लाने की होगी कोशिश —

{ यह भी पढ़ें:- नीति आयोग ने थपथपाई योगी सरकार की पीठ }

सीएम योगी का मॉरीशस दौरा बतौर मुख्यमंत्री पहला विदेशी दौरा है। अपने इस तीन दिवसीय यात्रा के दौरान वह भारतवंशी कारोबारियों को भारत में यानी अपने घर में निवेश करने के लिए बुलावा दे सकते हैं। इसके लिए वह वहां के करोबारियों से मुलाकात कर उत्तर प्रदेश में कारोबारी अवसरों और भविष्य की संभावनाओं के बारे चर्चा कर सकते हैं।

यूपी सरकार को उम्मीद है कि यूपी और बिहार से मूलत: जुड़े होने के कारण मॉरीशस के कारोबारी वर्ग को भावनात्क रूप से भी निवेश के लिए आकर्षित किया जा सकता है। अगर प्रदेश में विदेशी निवेश आता है तो निश्चित ही यह दो देशों के बीच नए कारोबारी संबन्धों की शुरूआत होगी।

{ यह भी पढ़ें:- तिरंगे के अपमान पर मॉरीशस सरकार ने मांगी माफी }

Loading...