1. हिन्दी समाचार
  2. सीएम योगी ने गन्ना किसानों के खाते में डीबीटी के माध्यम से 418 करोड़ रुपए का किया भुगतान

सीएम योगी ने गन्ना किसानों के खाते में डीबीटी के माध्यम से 418 करोड़ रुपए का किया भुगतान

By शिव मौर्या 
Updated Date

Cm Yogi Paid 418 Crore Rupees Through Dbt In Sugarcane Farmers Account

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को अपने सरकारी आवास से गन्ना किसानों के खाते में डीबीटी के माध्यम से 418 करोड़ रुपए का भुगतान किया। योगी सरकार ने पिछले 3 वर्षों में अब तक 1,00,325 करोड़ रुपए के गन्ना मूल्य का भुगतान कर चुकी है, जो अब तक सबसे बड़ा रिकार्ड है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सरकार हर कदम पर पूरी शिद्दत से किसानों के साथ है।

पढ़ें :- Maruti Eco Ambulance की कीमत में कंपनी ने की भारी कटौती, जानें कहां पहुंची

सरकार किसानों की आय दोगुना करने को लेकर लगातार कार्य कर रही है। गन्ना किसानों के पाई-पाई का भुगतान हमारी प्रतिबद्धता है। विगत 3 माह 3 वर्ष के दौरान उत्तर प्रदेश के चीनी उद्योग के इतिहास का यह स्वर्णिम अवसर है, जब इतनी बड़ी धनराशि का भुगतान डीबीटी के माध्यम से सीधे किसान के खाते हो रहा है। पिछली कोई भी सरकार ने इतना भुगतान अपने 5 साल के कार्यकाल में भी नहीं किया।

चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास विभाग की ओर से आयोजित कार्यक्रम में वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए किसानों से संवाद स्थापित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सुशासन का असली मानक लोगों की संतुष्टि है। चीनी उद्योग के लिए यह स्वर्णिम समय है। इस दौरान न सिर्फ रिकॉर्ड भुगतान हुआ बल्कि गन्ने और चीनी का रिकॉर्ड उत्पादन भी हुआ। किसानों के परिश्रम ने प्रदेश में आज एक नई राह दिखाई है। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों ने चीनी मिलें बंद की थी, हमारी सरकार ने उसे फिर चालू करवाया।

गोरखपुर में कभी 3 चीनी मिलें हुआ करती थीं और देखते ही देखते पिछली सरकारों के कार्यकाल में सभी चीनी मिलें बंद हो गई थीं। लेकिन हमारे आने के बाद गन्ना विभाग ने पिपराइच में नई चीनी मिल स्थापित की। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि यह सब अन्नदाता किसानों की मेहनत के बूते हुआ। इस दौरान केंद्र एवं प्रदेश सरकार ने भी किसानों के हित को सर्वोपरि रखा। कोरोना के नाते हुए लॉकडाउन खेतीबाड़ी के लिए चुनौती था। गन्ने और गेहूं की फसल खेत में थी।

हमें संक्रमण रोकते हुए किसानों का हित भी देखना था। हमने तय किया कि लॉकडाउन के सारे मानकों का अनुपालन करते हुए हम गेहूं और गन्ने की खरीद करेंगे। जब तक किसानों के खेत में एक भी गन्ना रहेगा चीनी मिलों को भी चलाएंगे। शासन और किसानों के बेहतरीन तालमेल के कारण ऐसा हुआ भी। उन्होंने कहा कि आज का किसान टेक्नोलॉजी के साथ जुड़ा है। टेक्नोलॉजी के माध्यम से बिना पर्ची के केवल मोबाइल फोन पर एसएमएस दिखा कर भी गन्ने की तुलाई संभव है। भुगतान के लिए अब इधर उधर भटकना नहीं पड़ता है।

पढ़ें :- VIDEO: Anirudh Dave ने Father's Day पर पापा को दिया स्पेशल सरप्राइज़, शेयर किया इमोशनल पोस्ट

लॉकडाउन में बना सभी चीनी मिलों के संचालन का कीर्तिमान
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लाकडाउन के दौरान प्रदेश के अंदर गन्ना विभाग ने सभी 119 चीनी मिलों का सफलतापूर्वक संचालन किया। हम लोगों ने संकल्प लिया था कि जब तक किसानों के खेत में एक भी गन्ना रहेगा, तब तक चीनी मिल चलेगी और इस संकल्प को भी हमने पूरा कर लिया है। लॉकडाउन में सभी खांडसारी इकाईयां भी चलीं। प्रदेश भर के प्रगतिशील किसानों से लगातार संवाद का अनुभव हमारे लिए सुखद रहा। इन किसानों ने अपने-अपने क्षेत्र में कृषि विविधिकरण और बेहतर तकनीक के जरिए अपनी आय बढ़ाकर बाकी किसानों के लिए नजीर पेश की।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X