अखिलेश की पुरानी मर्सिडीज पर ही चलेंगे सीएम योगी आदित्यनाथ

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एकबार फिर सादगी की मिसाल पेश की है। राज्य संपत्ति विभाग की ओर से सीएम योगी के चलने के लिए 3.50 करोड़ की नई मर्सिडीज खरीदने का प्रस्ताव तैयार किया था, लेकिन उन्होंने आम जनता के खून पसीने की कमाई पर अपने लिए नई कार खरीदने से मना कर दिया। उन्होंने अखिलेश यादव द्वारा बतौर मुख्यमंत्री खरीदी गईं दो मर्सिडीजों में से एक पर चलना स्वीकार किया है।

मिली जानकारी के मुताबिक अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री रहते अपने चलने के लिए दो मर्सिडीज एसयूवी खरीदीं थीं। इनमें से एक गाड़ी का प्रयोग वह स्वयं करते थे तो दूसरी गाड़ी उन्होंने अपने पिता मुलायम सिंह यादव को दे रखी थी। मुख्यमंत्री पद छोड़ते समय उन्होंने अपनी मर्सिडीज तो सरेंडर कर दी थी, लेकिन उनके पिता अभी भी सरकारी मर्सिडीज पर चढ़ रहे हैं।

मुलायम सिंह से नहीं ली जाए मर्सिडीज—

राज्य संपत्ति विभाग ने मुख्यमंत्री के बेड़े के लिए खरीदी गईं दो मर्सिडीज एसयूवी में से एक का प्रयोग कर रहे मुलायम सिंह यादव से गाड़ी वापस लेने की तैयारी की थी। लेकिन योगी आदित्यनाथ ने उनकी उम्र का हवाला देते हुए ऐसा करने से मना करते हुए गाड़ी की वापसी उन्हें अपने हिसाब से करने देने को कहा गया है।

योगी की इस दरियादिली को राजनीतिक सूझबूझ के रूप में देखा जा रहा है, क्योंकि योगी आदित्यनाथ और मुलायम के बीच राजनीतिक प्रतिद्वंदिता लंबे समय तक रही है। मुलायम सिंह यादव के मुख्यमंत्री रहते योगी को जेल की हवा खानी पड़ी थी। जेल में अपने साथ हुए व्यवहार को लेकर योगी लोकसभा के भीतर भावुक हो गए थे।

अखिलेश सरकार में कई नेताओं के लिए विशेष तौर पर खरीदी गईं मंहगी गाड़ियां —

सीएम अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री रहते अपने लिए मर्सिडीज खरीदी थी तो अपने दो चाचा मंत्रियों यानी मो0 आजम खां और शिवपाल यादव के लिए 37 लाख कीमत वाली स्कोडा कारें खरीदीं थी। इतना ही नहीं उनके कार्यकाल के दौरान मंत्रियों के लिए भी मंहगी टोयोटा फार्च्युनर एसयूवी खरीदीं गईं थीं।

ऐशो आराम के लिए मायावती ने भी खूब लुटाई आम आदमी की कमाई—

मुख्यमंत्री रहते मायावती के सरकारी ठाठबाट की बात की जाए तो उन्होंने सरकारी खजाने को अपनी राजशाही पर खर्च करने में कोई कोताही नहीं बरती। मुख्यमंत्री बनने के बाद मायावती ने नए विमान से लेकर अपने आवास तक के निर्माण में करोड़ों रुपए पानी की तरह बहा दिए। वह खुद डेढ़ करोड़ की लैंड क्रूजर में चला करतीं थीं। कहा तो ये तक जाता है कि अखिलेश यादव को मायावती से ही राजशाही विरासत में मिली थी। मायावती के पदचिन्हों पर चलते हुए उन्होंने भी नया चार्टर प्लेन खरीदा था।

योगी ने अपने मंत्रियों के लिए भी निर्धारित की गाड़ियों की कीमत की सीमा —
खुद पुरानी मर्सिडीज पर चलने को तैयार सीएम योगी ने अपने मंत्रियों के लिख नई फार्च्युनर खरीदने के प्रस्ताव को भी नाकार दिया है। योगी ने स्पष्ट निर्देश देते हुए राज्य संपत्ति विभाग को कहा ​है कि किसी के लिए भी 30 लाख की गाड़ी नहीं खरीदी जाएगी। मंत्रियों के लिए अधिकतम इनोवा की कीमत तक की गाड़ियां खरीदने की सीमा तय की गई है।