सीएम योगी ने कहा- देश में मई 2014 से चल रही रामराज्‍य पर आधारित शासन व्‍यवस्‍था

    yogi_adit

    लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मई 2014 में नरेन्‍द्र मोदी की अगुवाई में शासन की स्‍थापना असल में रामराज्‍य पर आधारित शासन व्‍यवस्‍था की स्थापना थी। उन्होंने कहा कि सरकार ने वंचितों, असहायों, गरीबों के जीवन में खुशहाली लाने के लिए विभिन्न लोक कल्याणकारी कार्यक्रमों को चला रही है। ये सारे काम राम के काम हैं।

    Cm Yogi Said Ramrajya Based Governance In The Country Since May 2014 :

    ब्रह्मलीन गोरक्षपीठाधीश्‍वर महंत दिग्विजयनाथ और महंत अवेद्यनाथ की पुण्‍यतिथि पर एक हफ्ते तक आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की शुरुआती मौके पर सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने ये बातें कहीं। उन्‍होंने कहा कि राम के काम लोककल्‍याण के काम हैं। इस दृष्टि से श्रीराम जन्‍मभूमि पर श्रीराम मंदिर का निर्माण लोक मंगल और लोक कल्‍याण का अत्‍यंत महत्‍वपूर्ण काम है।

    उन्‍होंने रामजन्‍मभूमि आंदोलन से ब्रह्मलीन गोरक्षपीठाधीश्‍वर महंत दिग्वियजनाथ और महंत अवेद्यनाथ के सम्‍बन्‍ध का उल्‍लेख करते हुए कहा कि मंदिर निर्माण शुरू होने से महंत दिग्विजयनाथ और महंत अवेद्यनाथ के संकल्‍पों की सिद्धि हुई है। दोनों गोरक्षपीठाधीश्‍वरों ने भारत में रामराज्‍य की स्‍थापना के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया था। आज उनके इस समर्पण से उनका सपना यह सरकार पूरा कर रही है।

    मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देश की मौजूदा सरकार को राम राज्या की ही कड़ी के रूप में देखा जा सकता है। उन्‍होंने कहा कि राममंदिर निर्माण मात्र एक मन्दिर निर्माण का काम नहीं है बल्कि भारत की अपनी संस्कृति, अपनी परम्परा और यशस्वी पूर्वजों के प्रति सम्मान के भाव की परिणति है।

    लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मई 2014 में नरेन्‍द्र मोदी की अगुवाई में शासन की स्‍थापना असल में रामराज्‍य पर आधारित शासन व्‍यवस्‍था की स्थापना थी। उन्होंने कहा कि सरकार ने वंचितों, असहायों, गरीबों के जीवन में खुशहाली लाने के लिए विभिन्न लोक कल्याणकारी कार्यक्रमों को चला रही है। ये सारे काम राम के काम हैं। ब्रह्मलीन गोरक्षपीठाधीश्‍वर महंत दिग्विजयनाथ और महंत अवेद्यनाथ की पुण्‍यतिथि पर एक हफ्ते तक आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की शुरुआती मौके पर सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने ये बातें कहीं। उन्‍होंने कहा कि राम के काम लोककल्‍याण के काम हैं। इस दृष्टि से श्रीराम जन्‍मभूमि पर श्रीराम मंदिर का निर्माण लोक मंगल और लोक कल्‍याण का अत्‍यंत महत्‍वपूर्ण काम है। उन्‍होंने रामजन्‍मभूमि आंदोलन से ब्रह्मलीन गोरक्षपीठाधीश्‍वर महंत दिग्वियजनाथ और महंत अवेद्यनाथ के सम्‍बन्‍ध का उल्‍लेख करते हुए कहा कि मंदिर निर्माण शुरू होने से महंत दिग्विजयनाथ और महंत अवेद्यनाथ के संकल्‍पों की सिद्धि हुई है। दोनों गोरक्षपीठाधीश्‍वरों ने भारत में रामराज्‍य की स्‍थापना के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया था। आज उनके इस समर्पण से उनका सपना यह सरकार पूरा कर रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देश की मौजूदा सरकार को राम राज्या की ही कड़ी के रूप में देखा जा सकता है। उन्‍होंने कहा कि राममंदिर निर्माण मात्र एक मन्दिर निर्माण का काम नहीं है बल्कि भारत की अपनी संस्कृति, अपनी परम्परा और यशस्वी पूर्वजों के प्रति सम्मान के भाव की परिणति है।