भ्रष्ट अधिकारियों को लेकर सीएम योगी सख्त, कहा, सरकार में इनकी कोई जगह नहीं, दे दीजिए तत्काल वीआरएस

yogi
भ्रष्ट अधिकारियों को लेकर सीएम योगी सख्त, कहा, सरकार में इनकी कोई जगह नहीं, दे दीजिए तत्काल वीआरएस

लखनऊ। सीएम योगी आदित्यनाथ भ्रष्ट अधिकारियों पर शिकंजा कसने जा रहे हैं। गुरुवार सचिवालय प्रशासन विभाग की समीक्षा बैठक में भ्रष्ट अधिकारियों पर शिकंजा कसने को कहा। उन्होंने कहा कि बेईमान—भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए सरकार में कोई जगह नहीं है। इन्हें तत्काल वीआरएस दे दीजिए। इसके साथ कहा कि, जिन अधिकारियों की गतिविधियां संदिग्ध हैंं और जिनके खिलाफ शिकायतें दर्ज हैं उनकी सूची बनाई जाये।

Cm Yogi Strict About Corrupt Officials :

सीएम ने न्यायालयों से जुड़े मामलों का तत्काल समाधान करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मेरिट के आधार पर समाधान करना चाहिए। इसके साथ ही अस्थाई व आउटसोर्स कर्मियों का मानदेय समय से नहीं मिल पा रहा है। उन्हें तत्काल वेतन दिया जाए। आउटसोर्सिंग कर्मियों के रुके हुए वेतन के मुद्दे पर मुख्यमंत्री ने कहा कि गलती एक करता है और पूरी सरकार को कठघरे में खड़ा होना पड़ता है।

इसके साथ ही सीएम ने अधिकारियों को कार्य पद्धति में सुधार के निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री ने ये निर्देश लोकभवन में आयोजित सचिवालय प्रशासन विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान अधिकारियों को दिए हैं। उन्होंने ई-ऑफिस की कार्य प्रगति पर असंतोष जताते हुए कहा कि दो वर्ष के बाद भी शतप्रतिशत कार्य क्यों नहीं हो पाया है। उन्होंने अधिकारियों को ई-ऑफिस की व्यवस्था को तेज गति से पूर्ण करने के निर्देश दिए।

लखनऊ। सीएम योगी आदित्यनाथ भ्रष्ट अधिकारियों पर शिकंजा कसने जा रहे हैं। गुरुवार सचिवालय प्रशासन विभाग की समीक्षा बैठक में भ्रष्ट अधिकारियों पर शिकंजा कसने को कहा। उन्होंने कहा कि बेईमान—भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए सरकार में कोई जगह नहीं है। इन्हें तत्काल वीआरएस दे दीजिए। इसके साथ कहा कि, जिन अधिकारियों की गतिविधियां संदिग्ध हैंं और जिनके खिलाफ शिकायतें दर्ज हैं उनकी सूची बनाई जाये। सीएम ने न्यायालयों से जुड़े मामलों का तत्काल समाधान करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मेरिट के आधार पर समाधान करना चाहिए। इसके साथ ही अस्थाई व आउटसोर्स कर्मियों का मानदेय समय से नहीं मिल पा रहा है। उन्हें तत्काल वेतन दिया जाए। आउटसोर्सिंग कर्मियों के रुके हुए वेतन के मुद्दे पर मुख्यमंत्री ने कहा कि गलती एक करता है और पूरी सरकार को कठघरे में खड़ा होना पड़ता है। इसके साथ ही सीएम ने अधिकारियों को कार्य पद्धति में सुधार के निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री ने ये निर्देश लोकभवन में आयोजित सचिवालय प्रशासन विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान अधिकारियों को दिए हैं। उन्होंने ई-ऑफिस की कार्य प्रगति पर असंतोष जताते हुए कहा कि दो वर्ष के बाद भी शतप्रतिशत कार्य क्यों नहीं हो पाया है। उन्होंने अधिकारियों को ई-ऑफिस की व्यवस्था को तेज गति से पूर्ण करने के निर्देश दिए।