सपा सरकार में हुई पशुपालन भर्ती घोटले में बड़ी कार्रवाई, निदेशक समेत छह अफसर निलंबित

cm yogi
सपा सरकार में हुई पशुपालन भर्ती घोटले में बड़ी कार्रवाई, अपर निदेशक समेत छह अफसर निलंबित

लखनऊ। सपा सरकार के दौरान 2012—13 में पशुधन अधिकारियों की भर्ती में हुए घोटाले पर सीएम योगी ने बड़ी कार्रवाई की है। विभाग के निदेशक समेत छह अफसरों को निलंबित कर दिया गया है। मुख्यमंत्री के आदेश के बाद एसआईटी जांच शुरू हुई थी, जिसके बाद भर्ती में हुए घोटले से पर्दाफाश हुआ था।

Cm Yogis Big Action In The Animal Husbandry Recruitment Scam In Sp Government Suspended Six Officers Including Additional Director :

पशुधन अधिकारियों की भर्ती की जांच एसआईटी ने की थी। जांच में पाया गया कि भर्ती में मनमाने तरीके से मानकों को दरकिनार किया गया। प्रदेश भर में 1148 पशुधन प्रसार अधिकारियों की हुई भर्ती में अफसरों ने लिखित परीक्षा 100 की जगह 80 नंबरों की करवाई और 20 नंबर का इंटरव्यू रख दिया।

इंटरव्यू के दौरान अफसरों ने अपने करीबी अभ्यार्थियों को मनमाने तरीके से नंबर दिया था और उन्हें चुना गया। इस भर्ती में हुए घोटले को लेकर जांच की मांग शुरू हुई तो योगी सरकार ने 28 दिसंबर 2017 को जांच एसआईटी को सौंप दी थी। जांच के बाद एसआईटी टीम ने प्रशासन को रिपोर्ट भेज दी जिस पर कार्रवाई की गई है।

शासन ने भर्ती घोटाले में दोषी मानते हुए पशुपालन निदेशक चरण सिंह यादव सहित अपर निदेशक अशोक कुमार सिंह, बस्ती के अपर निदेशक जीसी द्विवेदी, लखनऊ मंडल के अपर निदेशक डॉक्टर हरिपाल, बरेली मंडल के अपर निदेशक एपी सिंह और अयोध्या के अपर निदेशक अनूप श्रीवास्तव को निलंबित कर दिया है।

लखनऊ। सपा सरकार के दौरान 2012—13 में पशुधन अधिकारियों की भर्ती में हुए घोटाले पर सीएम योगी ने बड़ी कार्रवाई की है। विभाग के निदेशक समेत छह अफसरों को निलंबित कर दिया गया है। मुख्यमंत्री के आदेश के बाद एसआईटी जांच शुरू हुई थी, जिसके बाद भर्ती में हुए घोटले से पर्दाफाश हुआ था। पशुधन अधिकारियों की भर्ती की जांच एसआईटी ने की थी। जांच में पाया गया कि भर्ती में मनमाने तरीके से मानकों को दरकिनार किया गया। प्रदेश भर में 1148 पशुधन प्रसार अधिकारियों की हुई भर्ती में अफसरों ने लिखित परीक्षा 100 की जगह 80 नंबरों की करवाई और 20 नंबर का इंटरव्यू रख दिया। https://twitter.com/CMOfficeUP/status/1135119288094715904?s=19 इंटरव्यू के दौरान अफसरों ने अपने करीबी अभ्यार्थियों को मनमाने तरीके से नंबर दिया था और उन्हें चुना गया। इस भर्ती में हुए घोटले को लेकर जांच की मांग शुरू हुई तो योगी सरकार ने 28 दिसंबर 2017 को जांच एसआईटी को सौंप दी थी। जांच के बाद एसआईटी टीम ने प्रशासन को रिपोर्ट भेज दी जिस पर कार्रवाई की गई है। शासन ने भर्ती घोटाले में दोषी मानते हुए पशुपालन निदेशक चरण सिंह यादव सहित अपर निदेशक अशोक कुमार सिंह, बस्ती के अपर निदेशक जीसी द्विवेदी, लखनऊ मंडल के अपर निदेशक डॉक्टर हरिपाल, बरेली मंडल के अपर निदेशक एपी सिंह और अयोध्या के अपर निदेशक अनूप श्रीवास्तव को निलंबित कर दिया है।