सीएम योगी का बड़ा फैसला: अब यूपी के हर थाने, अस्पताल, तहसील और जेल में बनेंगे कोविड हेल्प डेस्क

cm yogi
कोरोना की चेन तोड़ने के लिए योगी सरकार की बड़ी पहल, घर-घर होगी कोरोना की स्क्रीनिंग

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोन वायरस की चेन जल्द टूटेगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसको लेकर विशेष योजना बनाई है। सीएम योगी ने प्रदेश के हर थाना, चिकित्सालय, राजस्व न्यायालय/तहसील, विकास खण्ड और जेल में कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना करने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही कोविड हेल्प डेस्क पर इस वायरस से बचाव संबंधित पोस्ट भी लगाने के निर्देश दिए हैं।

Cm Yogis Big Decision Now Kovid Help Desk Will Be Built In Every Police Station Hospital Tehsil And Jail Of Up :

सीएम ने कहा कि कोविड हेल्प डेस्क पर पल्स ऑक्सीमीटर, इंफ्रारेड थर्मामीटर और सैनेटाइजर उपलब्ध हो। उन्होंने कहा कि इस दौरान कोविड हेल्प डेस्क पर रहने वाले कर्मियों को इसका प्रशिक्षण भी दिया जाये। मंगलवार को सीएम योगी अनलॉक व्यवस्था की उच्च स्तरीय समीक्षा कर रहे थे। सीएम ने इस दौरान निर्देश दिया कि कोविड डेस्क पर हर समय एक से दो कर्मचारी मौजूद रहें और इसका संचालन सुबह से शाम तक हर रोज किया जाए।

इसके साथ ही सीएम ने कहा कि प्राइवेट अस्पतालों को भी कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना के लिए प्रेरित किया जाए। उन्होंने स्थापित की गईं कोविड हेल्प डेस्क की सूची उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने जनपदों में भेजे जाने वाले विशेष सचिव स्तर के अधिकारियों को जनपदों में रहकर स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को बेहतर करने में सम्बन्धित मुख्य चिकित्सा अधिकारी को सहयोग प्रदान करने के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने कहा कि कोविड-19 के आपदाकाल में इन अधिकारियों द्वारा किए जाने वाले कार्यों का विशेष रूप से मूल्यांकन किया जाएगा। इसके साथ ही सीएम ने कहा है कि टेस्टिंग की संख्या में लगातार वृद्धि की जाए। इसके साथ ही सर्विलांस व्यवस्था को और बेहतर करने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि इस उद्देश्य के लिए जनपदों में विशेष सचिव स्तर के अधिकारी भेजे जा रहे हैं। सर्विलांस कार्य को सुदृढ़ करने से मेडिकल टेस्टिंग की संख्या बढ़ाने में मदद मिलेगी।

,

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोन वायरस की चेन जल्द टूटेगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसको लेकर विशेष योजना बनाई है। सीएम योगी ने प्रदेश के हर थाना, चिकित्सालय, राजस्व न्यायालय/तहसील, विकास खण्ड और जेल में कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना करने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही कोविड हेल्प डेस्क पर इस वायरस से बचाव संबंधित पोस्ट भी लगाने के निर्देश दिए हैं। सीएम ने कहा कि कोविड हेल्प डेस्क पर पल्स ऑक्सीमीटर, इंफ्रारेड थर्मामीटर और सैनेटाइजर उपलब्ध हो। उन्होंने कहा कि इस दौरान कोविड हेल्प डेस्क पर रहने वाले कर्मियों को इसका प्रशिक्षण भी दिया जाये। मंगलवार को सीएम योगी अनलॉक व्यवस्था की उच्च स्तरीय समीक्षा कर रहे थे। सीएम ने इस दौरान निर्देश दिया कि कोविड डेस्क पर हर समय एक से दो कर्मचारी मौजूद रहें और इसका संचालन सुबह से शाम तक हर रोज किया जाए। इसके साथ ही सीएम ने कहा कि प्राइवेट अस्पतालों को भी कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना के लिए प्रेरित किया जाए। उन्होंने स्थापित की गईं कोविड हेल्प डेस्क की सूची उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने जनपदों में भेजे जाने वाले विशेष सचिव स्तर के अधिकारियों को जनपदों में रहकर स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को बेहतर करने में सम्बन्धित मुख्य चिकित्सा अधिकारी को सहयोग प्रदान करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के आपदाकाल में इन अधिकारियों द्वारा किए जाने वाले कार्यों का विशेष रूप से मूल्यांकन किया जाएगा। इसके साथ ही सीएम ने कहा है कि टेस्टिंग की संख्या में लगातार वृद्धि की जाए। इसके साथ ही सर्विलांस व्यवस्था को और बेहतर करने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि इस उद्देश्य के लिए जनपदों में विशेष सचिव स्तर के अधिकारी भेजे जा रहे हैं। सर्विलांस कार्य को सुदृढ़ करने से मेडिकल टेस्टिंग की संख्या बढ़ाने में मदद मिलेगी। ,