योगी के सीएम बनने के बाद हिंदू युवा वाहिनी का क्रेज बढ़ा, रोज आ रहे 5000 आवेदन

लखनऊ| योगी आदित्यनाथ के उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने के बाद हिंदू युवा वाहिनी से जुड़ने की इच्छा रखने वालों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है| जहां पहले इससे जुड़ने के लिए महीने में 500 से 1000 आवेदन ही आते थे वहीँ अब रोज़ 5000 से अधिक लोग हिंदू युवा वाहिनी से जुड़ने के लिए आवेदन कर रहे हैं| बता दें कि पहले हिंदू युवा वाहिनी का सदस्य बनने के लिए आवेदक को 11 रुपए का शुल्क देना होता था, जिसकी रसीद तुरंत दे दी जाती थी लेकिन अब इसका सदस्य बनने के लिए कोई शुल्क नहीं देना होगा और सिर्फ ऑनलाइन आवेदन ही स्वीकार किए जाएंगे|




हिंदू युवा वाहिनी को योगी आदित्य नाथ ने साल 2002 में बनाया था| पहले हिन्दू युवा वाहिनी का सदस्य बनने के लिए कोई नियम या कानून नहीं था लेकिन अब इसका सदस्य बनने के लिए कई दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं| नए गाइडलाइंस के अनुसार, पहले उम्मीदवार के बैकग्राउंड को चेक और वैरिफाई किया जाएगा| जिसमें जांच के जाएगी कि क्या उसका किसी राजनीतिक पार्टी की ओर झुकाव तो नहीं, फिर उम्मीदवार को एक साल की जांच प्रक्रिया से होकर गुजरना होगा|




संगठन के तरफ से जारी सर्कुलर में कहा गया है, ‘कई लोग संगठन से इसलिए जुड़ना चाहते हैं ताकि वो इसे बदनाम कर सकें इसलिए उम्मीदवार के बैकग्राउंड के साथ उसकी गतिविधियों को भी जांच लिया जाए| सर्कुलर में यह भी कहा गया है कि संगठन से जुड़ने के बाद नए सदस्य को कम से कम छह माह तक एक सामान्य कार्यकर्ता के तौर पर काम करना होगा, इसके बाद ही उसे कोई पद दिया जाएगा|