मैकेनिकल इंजीनियर ने तैयार किया पानी से चलने वाला इंजन, जापान में होगा लॉंच

मैकेनिकल इंजीनियर ने तैयार किया पानी से चलने वाला इंजन, जापान में होगा लॉंच
मैकेनिकल इंजीनियर ने तैयार किया पानी से चलने वाला इंजन, जापान में होगा लॉंच

नई दिल्ली। तमिलनाडु के कोयंबटूर स्थित एक मैकेनिकल इंजीनीयर एस कुमारस्वामी ने अपनी 10 साल की मेहनत से एक पानी से चलने वाला इंजन तैयार किया है। कुमारस्वामी ने इको-फ्रेंडली इंजन का दावा करते हुए बताया कि इसे आप मात्र डिस्टिल्ड वॉटर की मदद से चल सकते हैं।

Coimbatore Mechanical Engineer S Kumarasamy Invented An Engine That Run On Distilled Water :

इंजन इसलिए इको-फ्रेंडली इसलिए है क्योंकि यह ऑक्सीजन छोड़ता है और फ्यूल के तौर पर हाइड्रोजन का इस्तेमाल करता है। हालांकि, इस इंजन को भारत के बजाय कुछ ही दिनों में जापान में लॉन्च किया जाएगा।

भारत में भी लाना चाहते हैं पानी से चलने वाला इंजन

कुमारस्वामी ने बताया कि मैं चाहता हूं कि जल्द ही इस इंजन को भारत में भी लॉन्च किया जाए।उन्होने कहा कि इस इंजन को तैयार करने में उन्हें पूरे 10 साल लगे हैं लेकिन अंत में मुझे सफलता मिल ही गई।

उन्होंने कहा कि मेरा सपना था कि मैं इसे सबसे पहले भारत में इंट्रोड्यूस करूं, इसके लिए मैंने सभी प्रशासनिक दरवाजे खटखटाए। लेकिन, मुझे कोई सकारत्मक जवाब नहीं मिला। इसलिए मैंने जापान सरकार से संपर्क किया और मुझे यहां अवसर भी मिला। अब जल्द ही इस इंजन को जापान में लॉन्च किया जाएगा।

नई दिल्ली। तमिलनाडु के कोयंबटूर स्थित एक मैकेनिकल इंजीनीयर एस कुमारस्वामी ने अपनी 10 साल की मेहनत से एक पानी से चलने वाला इंजन तैयार किया है। कुमारस्वामी ने इको-फ्रेंडली इंजन का दावा करते हुए बताया कि इसे आप मात्र डिस्टिल्ड वॉटर की मदद से चल सकते हैं। इंजन इसलिए इको-फ्रेंडली इसलिए है क्योंकि यह ऑक्सीजन छोड़ता है और फ्यूल के तौर पर हाइड्रोजन का इस्तेमाल करता है। हालांकि, इस इंजन को भारत के बजाय कुछ ही दिनों में जापान में लॉन्च किया जाएगा। भारत में भी लाना चाहते हैं पानी से चलने वाला इंजन कुमारस्वामी ने बताया कि मैं चाहता हूं कि जल्द ही इस इंजन को भारत में भी लॉन्च किया जाए।उन्होने कहा कि इस इंजन को तैयार करने में उन्हें पूरे 10 साल लगे हैं लेकिन अंत में मुझे सफलता मिल ही गई। उन्होंने कहा कि मेरा सपना था कि मैं इसे सबसे पहले भारत में इंट्रोड्यूस करूं, इसके लिए मैंने सभी प्रशासनिक दरवाजे खटखटाए। लेकिन, मुझे कोई सकारत्मक जवाब नहीं मिला। इसलिए मैंने जापान सरकार से संपर्क किया और मुझे यहां अवसर भी मिला। अब जल्द ही इस इंजन को जापान में लॉन्च किया जाएगा।